मकर राशि के जातक सोच समझकर निर्णय लेने वाले, समझदार, बुद्धिमान व्यक्ति होते है।

मकर राशि के जातक सोच समझकर निर्णय लेने वाले, समझदार, बुद्धिमान व्यक्ति होते है। 

Image by Dorothe from Pixabay
Image by Dorothe from Pixabay


मकर राशि के जातक

  • राशि क्रम के अनुसार मकर राशि का स्थान १० वे स्थान पर होता है। मकर राशि का प्रतिनिधित्व शनि ग्रह करता है। 
  • मकर राशि के नाम अक्षर ” भो, जा, जी, जू, जे, जो, खा, गा, गी ‘ होते है।
  • मंगल ग्रह मकर राशि में उच्च का स्थान प्राप्त करता है और अपने शुभ फल प्रदान करता है। 
  • ब्रहस्पति ग्रह मकर राशि में आने पर अपनी नीच की अवस्था में होता है और अशुभता प्रदान करने लगता है। 
  • मकर राशि शरीर में पैरों,जांघो ,घुटनों और हड्डियों से सम्बंधित होती है। 
  • मकर जातकों के सप्ताह में शुभ वार शुक्रवार, मंगलवार और शनिवार होता है
  • इनके शुभ रंग लाल, नीला और सफेद होते है।

मकर राशि के जातक,  सोच समझकर निर्णय लेने वाले, समझदार, बुद्धिमान व्यक्ति होते है। 

इनमें असामान्य संगठन योग्यता और रचनाएँ बनाने की क्षमता होती है। अपनी बुद्धिमानी, असाधारण सहन-शक्ति, सबर के काम लेने की प्रवति से यह लोग किसी भी संगठन में अपने आपको प्रसिद्द कर लेते है।  

मकर राशि में जन्म लेने वाले व्यक्ति अपनी बात पर अडिग रहने वाले होते है, इच्छाशक्ति से मजबूत व्यक्ति होते है। अपनी बात को लेकर मनमर्जी करने वाले होते है, जो सोच लेते है वही करते है। इनका स्वाभाव भी काफी रुखा भी होता है। 

इनकी राशि का स्वामी शनि होता है, इसलिए अगर कुंडली में शनि शुभ नहीं है, तो मकर जातक निराश रहने वाले ,निर्दयी, उद्दंड भी हो सकते है। 


मकर राशि के जातकों की शारीरिक रचना 

शारीरिक रूप से मकर राशि के जातक पतले दुबले और लम्बे होते है ,इनके हाथ पैर लम्बे लम्बे होते है। रंग रूप से कुछ सांवले होते है। बचपन में ये साधारण बच्चों की ही तरह दिखते है, लेकिन किशोरावस्था से ये अचानक ही लम्बे कद के होने लगते है और युवाओं जैसे दिखने लगते है। मकर राशि के जातक लम्बे समय तक युवाओं की तरह दिखते है, जबकि इनके साथ के मित्र उम्रदराज दिखने लगते है।  

मकर राशि के जातकों की चारित्रिक विशेषताएं 

मकर जातकों के जीवन में दूसरों के लिए त्याग करना  बलिदान देना ,इनके जीवन का एक हिस्सा होता है। 

मकर जातक  नैतिक शिक्षक, नैतिकतावादी, नीति-उपदेशक, राजनेता, राजनीतिज्ञ, नीतिज्ञ, नीति-उपदेशक, राष्ट्र-कर्मी, शांत स्वाभाव , बुद्धिमान व्यक्ति, समझदार, व्यवहार-कुशल होते है। 

मकर जातकों में असाधारण संगठन संचालन शक्ति होती है और बहुत सफलता से संगठन का संचालन करते हुए देखे जाते है। इनकी असाधारण स्थिरता, टिकाव, सहन-शक्ति ,धीरज, और मजबूत प्रवृत्ति  के होने के कारण ये लोग बड़ा संगठन खड़ा करने में माहिर होते है। 

Read Also : Your Lucky Gemstone

मकर जातक हमेशा किसी न किसी लक्ष्य को लेकर आगे बढ़ते है, अपने लक्ष्य को पाने के लिए वह अपने आसपास किसी भी व्यक्ति का सहारा लेने से नहीं चूकते।  इसी वजह से वह कुछ स्वार्थी किस्म के भी होते हैं। मकर जातकों के लिए सामाजिक मान प्रतिष्ठा का बहुत महत्व होता है। जीवन में कोई भी कार्य वह बहुत सोच समझकर करते हैं और कभी भी किसी भी तरह का जोखिम नहीं उठाते। 

मकर जातकों का स्वामी शनि  से मकर जातक शांत, सत्यवादी, नेकनीयत, और भरोसेमंद होते है ,लेकिन इसी के विपरीत अगर कुंडली में शनि अशुभ हो तो ठीक इसके उलटे होते है। 

मकर जातकों को जीवन में आगे बढ़ने के लिए हमेशा एक साथी की आवश्यकता होती है ,तभी यह खुलकर अपने कार्यों को अंजाम दे पते है। 

अगर इनकी कमियों की बात की जाये तो, ये कुछ निराशावादी होते है, ज्यादा परिश्रम नहीं कर पाते। 

मकर राशि के जातकों की आजीविका 

अपने उधमशील स्वभाव, धीरज, परिश्रम, दृढ़ निश्चय आदि गुण होने के कारण मकर जातक जीवन में सफल होते हैं। अगर देखा जाए तो मकर जातकों को सबसे अधिक सफलता कपडे के व्यवसाई , भवन निर्माणकर्ता, खनन ,खेती, कृषिकर्म आदि कार्यों में प्राप्त होती है। 

मकर राशि जातक सरकारी क्षेत्रो और गैर सरकारी क्षेत्रो में नौकरी करते है।  ठेकेदारी के कार्यो में, पेट्रोलियम कारोबार में ,लोहे के कार्यों में, तेल के कारोबार में ,टायर के कारोबार में अविष्कारक ,वैज्ञानिक , अनाज व्यवसाय, कोयला व्यवसाय और गणित के प्रोफेसर आदि क्षेत्रों में देखे जाते है। 

मकर जातक व्यापार- व्यवसाय बड़े ही शांत मन और बुद्धिमानी से करते है।मकर जातक बुद्धिजीवी होने से शिक्षण संस्थानों, जीव विज्ञान, राजनीतिज्ञ, इतिहासकार आदि भी बनते हैं। वह कोई भी कार्य बड़ी योजना के अनुसार करने में विश्वास रखते हैं और अपने कड़े परिश्रम से निरंतर तरक्की करते हैं और जीवन में धीरे धीरे सफलता की सीढियां चढ़ते जाते है।

Read Also : आपका भाग्यशाली रत्न

मकर राशि के जातकों का स्वास्थय 

शारीरिक रूप से देखा जाये तो ज्यादातर इन्हे मानसिक चिंतन करने की समस्या होती है। शारीरिक निर्बलता रहती है, लकवा आदि से इन्हें सतर्क रहना चाहिए। 

पित्त की थैली में गड़बड़ी, पेट-पाचन संसथान में घाव, अँतड़ियो में रूकावट ,शीत स्थानों पर रहने से दमा और श्वास के रोग हो सकते है। जोड़ों का प्रदाह, पाँव और घुटनों में दर्द और सूजन की परेशानियाँ रह सकती है। 

मकर जातकों को शराब पीने की लत भी रह सकती है। 

मकर जातकों को अपने भोजन को लेकर विशेष सतर्क रहना चाहिए। 

Read Also : लक्ष्मी नारायण के अन्य ज्योतिष संपर्क

मकर राशि के जातकों का पारिवारिक जीवन 

मकर जातक अपने परिवार को बहुत चाहते है और उनसे प्यार करते है ,लेकिन यह उसको दर्शाते नहीं है न ही ऐसा कोई प्रदर्शन करते है। इनके इसी व्यहवार की वजय से इनके परिवार वाले और संतानो को लगता है की उनके पिता को उनकी चिंता नहीं रहती है। 

 मकर राशि के जातकों का वैवाहिक जीवन साधारण होता है , क्योकि यह अपनी किसी भी बात को लेकर झुकना पसंद नहीं करते ,इसी व्यवहार की वजय से यह अपने जीवनसाथी के साथ ज्यादा घुल मिल नहीं पाते । 

Leave a Comment

सूर्य रत्न माणिक्य कौन धारण कर सकते है पन्ना रत्न किसे पहनना चाहिए