बेस्ट एस्ट्रोलॉजर इन रायपुर और ज्योतिष में रत्नों का महत्व

Best Astrologer in Raipur

We provide you astrology consultation and solutions, as well as your lucky gemstone.

Lakshmi Narayan

Lakshmi Narayan

जैसा की आप सब जानते है लक्ष्मी नारायण देश के जाने माने ज्योतिष है, इनकी बचपन से ही ज्योतिशास्त्र में रूचि रही थी, लक्ष्मी नारायण का जन्म 6 फरवरी 1973 को हरियाणा में हुआ था।

इन्होंने ज्योतिशास्त्र में गहन अध्यन किया है, और लगभग 15 वर्षो से अपनी सेवाएं भक्तजनों को प्रदान करते आ रहे है।

लक्ष्मी नारायण ज्योतिष द्वारा जन सामान्य की समस्याओं का समाधान और मार्गदर्शन करते आ रहे है, उनका उद्देश्य भक्तजनों की अधिक से अधिक सेवा करना है, उनका नारा रहा है, “Our Aim Peacefull Life

ज्योतिष परामर्श केंद्र द्वारा प्रदान सुविधाएं

Astrology Consultation
Astrology Consultation

हम आपको ज्योतिष से सम्बंधित सभी तरह की सलाह प्रदान करते है।


learn more

Horoscope

Horoscope

हमारा संसथान जन्मकुंडली बहुत ही उचित मूल्य पर उपलब्ध करवाता है।


learn more

Online Consultation

Online Consultation

आप अपनी किसी भी समस्या का समाधान ऑनलाइन वार्तालाप से प्राप्त कर सकते है।


learn more

Gemstones Suggestions

Gemstones Suggestions

हम आपको आपके भग्यशाली रत्न का सुझाव देंगे, जो आपको तरक्की दे।


learn more

Rudraksha Suggestions

Rudraksha Suggestions

कौन सा रुद्राक्ष आपके सबसे सर्वश्रेष्ठ रहेगा और आपको पूर्ण सुरक्षा प्रदान करेगा।


learn more

Yantras and Mantras

Yantras & Mantras

यंत्रो और मंत्रो द्वारा आप भी अपने जीवन के कष्टों को दूर कर सकते है।


best astrologer in raipur

प्रणाम दोस्तों ! best astrologer in raipur के टॉपिक में आइये जानते है लक्ष्मी नारायण के बारे में।

लक्ष्मी नारायण देश के जाने माने ज्योतिषी है, देश विदेश से लोग लक्ष्मी नारायण से परामर्श प्राप्त करते आ रहे है,
लक्ष्मी नारायण शनि देव साधक है और अपनी साधना का लाभ हर उस व्यक्ति को देते है जो उनके द्वार किसी परेशनियों के साथ आता है, उनका उद्देशय व्यक्ति को उचित से उचित लाभ देने का रहता है।

लक्ष्मी नारायण भिलाई छत्तीसगढ़ के रहने वाले है और भिलाई से ही अपनी ज्योतिषीय सेवाएं प्रदान करते है, ज्योतिष परामर्श केंद्र के नाम से इनका ऑफिस है, 1400 – जो कृपाल नगर, अवन्ति बाई चौक, सुपेला, भिलाई स्तिथ है।

लक्ष्मी नारायण ज्योतिष से सम्बंधित सभी प्रकार की सेवाएं प्रदान करते है, उनका निवारण करते है, अगर आप आस पास निवासरत है तो आप ऑफिस आ कर परामर्श ले सकते है अन्यथा दूर रहने वाले व्यक्ति ऑनलाइन परामर्श प्राप्त कर लेते है। ऑनलाइन परामर्श में और साक्षात् परामर्श के कोई अंतर नहीं है, लक्ष्मी नारायण आपको विस्तार से परामर्श प्रदान करते है।

लक्ष्मी नारायण आपकी समस्याओं का निदान आपकी कुंडली के अनुसार बताते है, जिन्हें आपको दिए गए निर्देश अनुसार करना होता है, अगर समस्या के निदान में रत्न, ताबीज या यंत्र लगता है उसे “ज्योतिष परामर्श केंद्र” भी उपलब्ध करवाता है,
ज्योतिष परामर्श केंद्र के प्राप्त किये गए रत्न, ताबीज या यंत्र सिद्ध और अभिमंत्रित किये हुए रहते है, जिन्हें आपको बताये अनुसार धारण करना होता है।

लक्ष्मी नारायण साधारण व्यक्ति है, आप निःसंकोच कभी भी उन्हें कॉल कर सकते है। उनके यहाँ किसी भी तरह का बड़े बड़े, अतिआधुनिक ऑफिस वाला माहौल नहीं है।संपर्क करें

ज्योतिष शास्त्र में रत्नों का महत्व

मनुष्य जीवन में रत्नों का विशेष महत्त्व रहा है, रत्नो द्वारा हर वर्ग के व्यक्तियों ने लाभ उठाया है, फिर चाहे वह बड़ा नामी व्यक्ति हो, अभिनेता, राजनेता, बड़े बड़े कारोबारी हो या साधारण मनुष्य, ऐसा क्यों है, रत्नों में ऐसा क्या है, आइये आज की इस पोस्ट में रत्नों के महत्त्व के बारे में जानते। है

रत्नों का आकर्षण इस धरती पर आदिकाल से ही रहा है, विश्व में लगभग सभी देशों में रत्न और रत्न धारण का महत्त्व रहा है। प्राचीन समय से ही रत्नों को चमत्कारी और जादुई शक्तियों के प्रभावों से युक्त माना जाता है।
रत्नों की सुंदरता और दुर्लभता उन्हें और भी अधिक अनमोल बना देती है।

Read Also : क्या कहती है आपकी राशि

ज्योतिशास्त्र में रत्नों को अद्वितीय स्थान दिया गया है, ज्योतिशास्त्र के अनुसार रत्नों का सीधा सम्बन्ध नव ग्रहों से है, हर रत्न में उसके अपने ग्रह की ऊर्जा विद्यमान है, जिनको धारण करने से ग्रहों की ऊर्जा और शुभता प्राप्त होती है।
यही कारण है की प्राचीनकाल से ही रत्नों को धारण करके उनके लाभ लेने का प्रचलन चला आ रहा है, रत्नों को आध्यात्म की चीज समझा जाता रहा है, राजा महाराजा, मनुष्य प्राचीनकाल से ही रत्न धारण करके उनके लाभ लेते आ रहे है।

प्राचीन समय में रोमनवासियों में हकीक को बहुत ही शुभ और आध्यात्मिक समझा जाता था और लारजवर्त, कार्नेलियन और फिरोजा रत्न को मिस्रवासी बहुत ही शुभ मानते थे और इन रत्नों को शरीर पर ताबीज या किसी अन्य प्रकार से धारण करते थे।

Gemstones

आज भी ऐसे बहुत से रत्न है, जिनके बारे में ऐसा माना जाता है की उन्हें धारण करने से किसी भी प्रकार की नजर, भूत प्रेत बाधा नहीं रहेगी।
कुछ रत्न ऐसे है जिनके धारण से आने वाले अनिष्ट ख़त्म होते है, कुछ रत्नों के धारण से शारीरिक कष्ट ख़त्म होते है, तो कुछ रत्न से यश, मान सम्मान और धन की प्राप्ति होती है।

ज्योतिषशात्र में इन्हीं रत्नों को बहुत अलौकिक दर्जा दिया गया है। राशियों, नक्षत्रों और ग्रहों के अनुसार इन रत्नों को धारण करने से मनुष्य का भाग्य बदल सकता है, उसके अनिष्ट ख़त्म हो सकते है।

Read Also : Your Lucky Gemstone
रत्नों का उपयोग सभी धर्मों और धार्मिक स्थानों में मिल जायेगा, चाहे वह मंदिर हो मठ, गिरिजाघर या अन्य धर्मों के धार्मिक स्थान हो।

प्राचीन वेद ग्रंथो जैसे की ऋग्वेद, महाभारत, अग्निपुराण, कौटिल्य अर्थशास्त्र आदि में भी रत्नों की अहमियत और वर्णन पढ़ने को मिल जायेगा।

ज्योतिषशास्त्र के अनुसार मुख्य रूप से नवरत्नों और चौरासी रत्नों का महत्त्व है, जैसे हीरा, नीलम, पन्ना, माणिक्य, मोती, मूंगा, पुखराज, गोमेद, लहसुनियां, लरजवर्द, अकीक, फिरोजा, पितोनिया, सुलेमानी, संगेमूसा, तामड़ा, बिल्लौर, दाना-ए-फिरंग आदि रत्न विशेष है

Read Also : आपका भाग्यशाली रत्न

Star Rating
5/5

Contact Us

Location
Contact Information
  • jyotishgeminigems@gmail.com
  • 70001-3035
Address Details
  • 1400,Kripal Ngar, Avanti Bai Chowk, Supela, Bhilai, C.G

get in touch

Request A Quote

We would love to hear from you and also discuss any thing about Astrology solutions. Get in touch also if you have the queries and we will get back to you soon.

Please follow and like us:

Leave a Comment

सूर्य रत्न माणिक्य कौन धारण कर सकते है पन्ना रत्न किसे पहनना चाहिए