कर्क लग्न के जातक बहुत इमोशनल और बहुत ज्ञानी होते हैं,अपनी फैमिली के प्रति ओवर प्रोटेक्टेड होते हैं

कर्क लग्न के जातक बहुत इमोशनल और बहुत ज्ञानी होते हैं,अपनी फैमिली के प्रति ओवर प्रोटेक्टेड होते हैं

 

Image by Dorothe from Pixabay
Image by Dorothe from Pixabay

 

कर्क लग्न

सबसे पहले जानते हैं कि कर्क लग्न के जातकों की खास बातें क्या है। कर्क लग्न का स्वामी चंद्रमा माना जाता है। कर्क लग्न जल तत्व प्रधान लग्न है ,यानी जल तत्व के जो सारे गुण हैं वह कर्क लग्न में पाए जाते हैं।

इस लग्न के लिए सूर्य ,चंद्रमा, बृहस्पति ,और मंगल मित्र होते हैं। बुध और शनि इस लग्न के परम शत्रु होते हैं। शुक्र कर्क लग्न के लिए सम भाव रखता है।

 

कर्क लग्न वालों की विशेषताएं क्या होती हैं

कर्क लग्न के लोग मध्यम कद के होते हैं गोल मटोल होते हैं और इनके चेहरे पर तेज होता है
कर्क लग्न के लोग बड़े भावुक होते हैं। बड़े इमोशनल होते हैं और हर व्यक्ति की, दूसरों की परवाह करते हैं। यह घर के आसपास रहना पसंद करते हैं और आमतौर पर घर के आस-पास ही रहते हैं।
आपकी आयु अच्छी होती है। आप बहुत ज्यादा रिलीजियस नहीं होते हैं। बहुत ज्यादा आप ईश्वर में विश्वास नहीं रखते हैं लेकिन कहीं ना कहीं आपकी आस्था ईश्वर से जुड़ी रहती है।
इनकी कल्पना और कला की शक्ति बहुत अच्छी होती है। इनके पास आध्यात्मिक गुण होता है। स्प्रिचुअल होते हैं और अतींद्रिय शक्ति इनके पास होती है। शिक्षा के क्षेत्र में ,ज्ञान के क्षेत्र में ,राजनीति में ,प्रशासन के क्षेत्र में ,आमतौर पर यह सफल पाए जाते हैं और इनको प्रसिद्धि बहुत आसानी से मिल जाती है।

कर्क लग्न के जातकों का व्यक्तित्व

कर्क लग्न के जातक बहुत इमोशनल होते होते हैं। अपनी फैमिली के प्रति ओवर प्रोटेक्टेड होते हैं। बहुत ज्ञानी होते हैं। सेल्फ एनालिसिस करने में माहिर होते हैं। बहुत जल्दी इमोशनल होना इनकी कमजोरी होती है। आप इनफ्लुएंशली फैमिली में पैदा होते हैं। आपके परिवार में आपके परिवार वाले पॉलिटिक्स से जुड़े हो सकते हैं या फिर आपके परिवार वाले सरकारी नौकरियों से जुड़े हुए हो सकते हैं या फिर टीचर के प्रोफेशन में हो सकते हैं। कहीं ना कहीं एक पढ़ी-लिखी फैमिली से आप रिलेटेड होते हैं।

अगर देखा जाए तो बहुत से महापुरुषों का जन्म कर्क लग्न में ही हुआ है। कर्क लग्न के जातकों के चेहरे पर तेज होता है। एक ऐसा तेज होता है जो सामने वाले को झुकने पर मजबूर कर देता है। एक ऐसा तेज जिसको देखकर नमन करने की इच्छा होती है। सामान्यतः देखा जाए तो इस लग्न और राशि के लोग भावुक और भावना प्रधान होते हैं। दूसरों की बहुत परवाह करते हैं। यह सदैव अपने परिवार के और अपने घर के आस-पास रहने की कोशिश करते हैं। यानी उनके स्वभाव में जो भावुकता होती है ,वह अपनों के प्रति बहुत लगाव रखती है।

चंद्रमा कर्क राशि से प्रभावित होता है इसलिए कर्क लग्न वालों की कल्पना की उड़ान कुछ अलग होती है। बाकियों से यह अलग होते हैं। आध्यात्मिक गुण ,अतींद्रिय ज्ञान इनमें होता है। यह इनमें जन्मजात होता है। शिक्षा के क्षेत्र में ,ज्ञान के क्षेत्र में, प्रशासन के क्षेत्र में, समाज के हर क्षेत्र में ,इस लग्न के लोग सफल ही होते देखे गए हैं। बेहद आसानी से इनको प्रसिद्धि मिल जाती है ,क्योंकि यह हर कार्य को अपने दिल की गहराइयों से करते हैं।

 

Read Also : लक्ष्मी नारायण के अन्य ज्योतिष संपर्क

 

ज्यादातर देखा गया है की है की कर्क लग्न के जातक जिस घर में रहते हैं वह एक सुंदर घर होता है ,बड़ा होता है। घर को अच्छा सजा कर रखना उनको अच्छा लगता है और ऐसा होता है कि लोग उनके घर को देखकर तारीफ करते हैं। आपके जीवन में आपकी माता का बहुत अहम योगदान रहता है ,और मां से आपका बहुत अधिक जुड़ाव रहता है।

जिससे प्रेम करते हैं ,जिसका हाथ थाम लिया उसका साथ नहीं छोड़ते। अपनों के लिए यह कुछ भी करने को तैयार रहते हैं।
जीवन काल में सम्मानित होते हैं। पद,प्रतिष्ठा, मान ,सम्मान ,बुद्धि ,सब कुछ अर्जित करते हैं।

सेवा की भावना इनमें सबसे अधिक होती है। अन्य लोगों ,अन्य लग्न के जातकों की अपेक्षा इनमें सबसे ज्यादा भावना होती है। लोगों की मदद करने की भावना होती है।

कर्क लग्न जातक पॉलिटिक्स में आगे जा सकते हैं। राजनीतिक क्षेत्र में यह जबरदस्त सफलता प्राप्त करते हैं। अगर देखा जाये तो राजनीति में कर्क लग्न के जातक सबसे अधिक मिलेंगे।
या बहुत अच्छे प्रोफेसर बन सकते हैं। बहुत अच्छी गवर्नमेंट पोस्ट में जा सकते हैं या फिर जनता से जुड़े हुए कामों से जुड़े हो सकते हैं।

कर्क जातक काम में हमेशा आगे रहना चाहते हैं और आप अपने आसपास आसपास के व्यक्तियों से हमेशा आगे रहना चाहते हैं
धन कमाने के लिए कर्क जातक हमेशा आगे रहते हैं। धन कमाने के लिए हमेशा बहुत बुद्धिमानी से सोचते हैं ,और बहुत अच्छा धन भी कमाते हैं। आपने लोगों को जज करने की क्षमता बहुत अच्छी होती है।
30 साल के बाद आप जीवन में धन कमाना शुरू करते हैं और उसके बाद जीवन में निरंतर तरक्की करते जाते हैं।

 

वैवाहिक जीवन

अक्सर ऐसा देखा जाता है कि कर्क लग्न वाले जातक अपना जीवनसाथी कुछ मैच्योर पसंद करते हैं ,या दूसरे शब्दों में कहा जाए तो आप अपना जीवन साथी एक मजबूत व्यक्ति को चाहते हैं। कर्क जातकों को विवाह 28 के बाद करना चाहिए, क्योंकि अगर आप का विवाह जल्दी होगा तो उसमें परेशानियां आने की संभावनाएं हो सकती है।
आपका जीवन साथी ,चाहे वह पति हो या पत्नी धन कमाने वाला होता है।

कर्क जातकों की संतान बहुत अच्छी होती है, बहुत सुंदर होती है। आप किसी से भी पेरेंटिंग टिप्स लेना पसंद नहीं करते ,आप चाहते हैं कि आप अपने बच्चों को अपने हिसाब से बड़ा करें और इसी के चलते कई बार आप अपना हार्ड डिसीजन बच्चों पर रखते हैं।

 

Read Also : Your Lucky Gemstone

 

स्वास्थ्य

इनका स्वास्थ्य कफ और पित्त से मिलाजुला होता है। इनको पेट की समस्याएं भी परेशान करती हैं।
सामान्यतः कर्क लग्न के लोग काम तो करते हैं ,लेकिन काम करने के बाद तुरंत आराम करना चाहते हैं। अक्सर इनको पेट की समस्या रहती है क्योंकि यह खान-पान का ध्यान नहीं देते हैं।

कर्क लग्न के व्यक्तियों की क्या कमियाँ होती हैं

सामान्यतः कर्क लग्न के लोग काम तो करते हैं लेकिन काम करने के बाद तुरंत आराम करना चाहते हैं और अक्सर इनको पेट की समस्या रहती है क्योंकि यह खान-पान का ध्यान नहीं देते हैं इनको सबसे ज्यादा मानसिक समस्याएं होती है

इनका वैवाहिक जीवन आमतौर पर अच्छा नहीं होता है। इसलिए अगर यह कुछ देरी से विवाह करें तो इनके लिए लाभदायक रहता है निर्णय लेने में भावना के शिकार हो जाते हैं जिस वजह से कभी कभी फस जाते हैं। कभी कभी बड़े इमोशनल भी हो जाते हैं। कभी कभी इनको क्रोध बहुत आता है।

कर्क लग्न वाले जातकों को सबका साथ होने के बावजूद भी अक्सर इनको अकेलेपन का अनुभव होता रहता है।
वह अपने आप बहुत जल्दी मेंटली कमजोर कर लेते हैं।

 

अब यह जानते हैं कि कर्क जातक अपने जीवन को बेहतर कैसे बना सकते हैं।

  • नियमित रूप से शिव की उपासना करें ,ध्यान करें।
  • आध्यात्मिक मार्ग पर चलने का प्रयास करें।
  • भावनाओं को अपनी बुद्धि से नियंत्रित करें।
  • विवाह थोड़ा विलंब से करें तो बेहतर होगा
  • सलाह लेकर एक मूंगा धारण करें।
  • लाल ,सफेद और पीला रंग आपके लिए अनुकूल होगा।
  • अगर आपको मानसिक समस्या का आभास होता है ,तो आप तुरंत चिकित्सक से संपर्क करें। अन्यथा समस्या बढ़ने की संभावनाएं हो सकती हैं।
  • अगर आपके वैवाहिक जीवन में समस्या रहती है तो नियमित रूप से भगवान शिव और मां पार्वती की पूजा करें।
  • पूर्णिमा के दिन उपवास करें और मोती की अंगूठी धारण करें।

विशेष दशाओं ,विशेष स्थितियों में हीरा या ओपल पहना जा सकता है। इससे जनता में प्रसिद्धि मिलेगी और धन का लाभ मिलेगा।

Leave a Comment

सूर्य रत्न माणिक्य कौन धारण कर सकते है पन्ना रत्न किसे पहनना चाहिए