गोमेद रत्न किस उंगली में पहनना चाहिए

गोमेद रत्न किस उंगली में पहनना चाहिए

गोमेद रत्न किस उंगली में पहनना चाहिए
गोमेद रत्न किस उंगली में पहनना चाहिए



गोमेद रत्न किस उंगली में पहनना चाहिए यह जानना बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि गलत उंगली में धारण किया गया गोमेद नुकसान देता है।

गोमेद धारण करने की उंगली


गोमेद राहु का रत्न है, यह बहुत प्रभवकारी भी है, ज्यादातर कुंडलियों में राहु ख़राब अवस्था में ही रहता है और जिनकी कुंडली में राहु अच्छी और शुभ अवस्था में होता है, उन्हें जीवन में राहु के काफी लाभदायक फ़ायदे प्राप्त होते है,

शुभ राहु जीवन में सकारात्मकता लाता है, बुरे प्रभावों को दूर करता है, व्यक्ति के जीवन में अचानक उनत्ति लाता है, आर्थिक स्तिथि को बहुत मजबूत करता है, सामाजिक सम्मान की प्राप्ति कराता है, जातक पर किसी भी तरह के नजर दोष, जादू टोन, भूत प्रेत के साए का असर नहीं होता,

गोमेद धारण करना लाभकारी तो हो गया, लेकिन यह भी जानना जरुरी होता है की गोमेद रत्न किस उंगली में पहनना चाहिए,
क्योंकि गलत ऊँगली में धारण किया गया गोमेद अपने पुरे प्रभाव धारणकर्ता को नहीं दे पायेगा,

1. तर्जनी उंगली ब्रहस्पति की है उस ऊँगली में धारण किया गया गोमेद धन और ज्ञान के लिए हानिकारक हो सकता है,

2. अनामिका उंगली सूर्य की है, इसमें तो बिलकुल भी गोमेद के रत्न को धारण नहीं किया जा सकता, लड़ाई झगड़े, आर्थिक नुकसान होने लगेंगे,

3. कनिष्ठा उंगली पर बुध का अधिकार है, इस उंगली में गोमेद धारण क्या जा सकता है, लेकिन इससे चर्म रोग होने के कारण बन सकते है, 

इसलिए गोमेद धारण करने के लिए सबसे श्रेष्ठ उंगली शनि की मध्यमा उंगली है, यहाँ गोमेद अपने पुरे अच्छे और शुभ प्रभाव देने में सक्षम होता है और राहु की ऐसी हस्ती भी नहीं है की वो शनि से दुःसाहस करने की कोशिश करें,
शनि भी राहु को तबतक कुछ नहीं कहते जब तक राहु उन्हें परेशान ना करें और राहु की हिम्मत नहीं है की वो शनि देव को किसी तरह से परेशान करें,

इसलिए गोमेद से सम्पूर्ण प्रभाव प्राप्त करने के लिए मध्यमा उंगली सबसे उत्तम होती है।

 

गोमेद धारण करने का दिन


गोमेद रत्न किस उंगली में पहनना चाहिए, इसके साथ यह भी बहुत जरुरी होता है की गोमेद किस दिन धारण किया जाये,
गोमेद को शनिवार के दिन शाम के समय शुभ मुहूर्त में धारण किया जाना चाहिए। 

Leave a Comment

सूर्य रत्न माणिक्य कौन धारण कर सकते है पन्ना रत्न किसे पहनना चाहिए