लग्न के अनुसार लाल मूंगा पहनने के फायदे lal moonga ke fayde

लाल मूंगा एक ऐसा रत्न है जो बहुत ही जल्दी अपना शुभ और अशुभ प्रभाव दिखाता है, आइए जानते हैं लग्न के अनुसार लाल मूंगा पहनने के फायदे lal moonga ke fayde

मंगल ग्रह

मंगल मेष और वृश्चिक पर अपना अधिकार रखता है, मंगल मकर राशि में उच्च का और कर्क राशि में नीच का हो जाता है, सूर्य, चंद्रमा और बृहस्पति मंगल के मित्र हैं और मंगल बुध से शत्रुता रखता है,

मंगल का मानव शरीर पर बहुत प्रभाव पड़ता है, मंगल व्यक्ति के गर्भ, गर्भपात, रक्त रोग, कान के रोग, त्वचा रोग, पित्त रोग आदि को प्रभावित करता है।
इसके अलावा, मंगल वीरता, साहस, सहनशक्ति, वीरता के कार्य, युद्ध, रक्तपात, झगड़े, शत्रु पर विजय, मजबूत मानसिक शक्ति आदि का कारक है।

Lucky Birthstone

मंगल रत्न lal moonga

मूंगा समुद्र के नीचे पाया जाने वाला एक रत्न है, जो मंगल ग्रह का प्रतिनिधित्व करता है, लाल मूंगा मंगल के प्रभाव को बढ़ाता है और व्यक्ति को हर तरह से लाभ पहुंचाता है,
मंगल का लाल मूंगा व्यक्ति में साहस और मजबूत मानसिक शक्ति का विकास करता है, आर्थिक उन्नति, उच्च प्रशासनिक नौकरी, राजनीति में सफलता, चिकित्सा क्षेत्र में उन्नति, सेना-पुलिस में उच्च पद, शत्रु पर विजय, इलेक्ट्रॉनिक क्षेत्रों में लाभ,
इसके अलावा यह और भी कई क्षेत्रों में लाभ देता है।

आइए अब चर्चा करते हैं कि मंगल के इस रत्न को कौन से लोग अपने लग्न के अनुसार पहन सकते हैं और किन लोगों के लिए मंगल का यह रत्न लाभकारी नहीं है।

लग्नानुसार रत्न निर्धारण

मेष लग्न

मेष लग्न के जातकों के लिए लग्न का स्वामी मंगल होता है, इसलिए मेष राशि के जातकों के लिए लाल मूंगा हर प्रकार से लाभकारी होता है।
यद्यपि मंगल की वृश्चिक राशि मेष लग्न में अष्टम भाव का स्वामी है, फिर भी मेष लग्न के जातक अष्टम भाव के नकारात्मक प्रभावों को महसूस नहीं करते हैं,

मेष लग्न के जातकों को लाल मूंगा मजबूत मानसिक शक्ति, स्वस्थ शरीर, आर्थिक उन्नति, धन लाभ, सरकारी संस्थानों से लाभ, शत्रुओं पर विजय, राजनीति और सरकारी नौकरी में लाभ देता है। मेष लग्न के जातकों को यह भाग्यशाली रत्न जीवन भर धारण करना चाहिए।

वृषभ लग्न

वृष लग्न के जातकों के लिए मंगल सप्तम (वैवाहिक स्थान) और बारहवें भाव (व्यय भाव) का स्वामी बनता है।
मंगल के लिए दोनों भाव बहुत ही अशुभ होते हैं इसलिए वृष लग्न के लोगों को कभी भी लाल मूंगा नहीं पहनना चाहिए।

भाग्यशाली रत्न

मिथुन लग्न

मिथुन लग्न के जातकों के लिए भी मंगल शुभ नहीं है, क्योंकि मिथुन लग्न में मंगल छठे भाव (रोग और ऋण) का स्वामी और ग्यारहवें भाव (लाभ और शारीरिक पीड़ा) का स्वामी है, मंगल की स्थिति दोनों भावों के लिए शुभ नहीं है और दोनों के बीच आपसी दुश्मनी भी है,

इसलिए मिथुन लग्न के लोगों को भी मंगल का रत्न लाल मूंगा धारण करने से बचना चाहिए।

कर्क लग्न

कर्क लग्न की कुंडली में मंगल पंचम भाव (बच्चों, बुद्धि और ज्ञान) और दशम भाव (नौकरी, व्यवसाय और प्रसिद्धि) का स्वामी बनता है।
कर्क लग्न का स्वामी चंद्रमा है और मंगल मित्र ग्रह भी है।
मंगल कर्क लग्न के जातकों को बुद्धि, संतान सुख, भाग्य, मान प्रतिष्ठा, सरकारी नौकरी, व्यापार में लाभ देता है।

इसलिए कर्क लग्न के जातकों के लिए मंगल बहुत ही शुभ, भाग्यशाली और लाभकारी होता है, कर्क लग्न के जातकों को जीवन भर लाल मूंगा धारण करना चाहिए।

सिंह लग्न

सिंह लग्न के लिए मंगल बहुत शुभ ग्रह है सिंह लग्न में मंगल चतुर्थ भाव (भूमि, भाव, वाहन सुख) और नवम भाव (भाग्य का स्थान) का स्वामी बनता है।
लाल मूंगा सिंह लग्न के जातकों को मानसिक शक्ति, माता का सुख, भूमि और वाहन सुख, धन लाभ, संपत्ति लाभ देता है और जातक को भाग्यशाली बनाता है।

इसलिए सिंह लग्न के जातकों को lal moonga धारण करने से अनेक लाभ मिलते हैं।

कन्या लग्न

कन्या लग्न में मंगल तीसरे भाव (श्रम भाव) और अष्टम भाव (मृत्यु भाव) का स्वामी होता है।
ज्योतिष शास्त्र में दोनों भावों को अशुभ माना गया है, इसलिए कन्या लग्न के लोगों को कभी भी लाल मूंगा नहीं पहनना चाहिए।

तुला लग्न

तुला लग्न में मंगल द्वितीय भाव (धन भाव) और सप्तम भाव (वैवाहिक भाव) का स्वामी बनता है।

ज्योतिष शास्त्र में दोनों भावों को ‘विनाशक’ कहा गया है, अर्थात इन भावों को बहुत शुभ नहीं माना जाता है, यदि मंगल तुला लग्न में द्वितीय, चतुर्थ, सप्तम और एकादश भाव में हो तो मंगल की महादशा में लाल मूंगा धारण किया जा सकता है।

वृश्चिक लग्न

वृश्चिक लग्न में मंगल लग्न का स्वामी है इसलिए वृश्चिक लग्न का स्वामी मंगल स्वयं होने के कारण जातक को जीवन के सभी सुख प्रदान करता है।
व्यक्ति को हर क्षेत्र में उन्नति, धन, यश देता है,

इसलिए प्रत्येक वृश्चिक लग्न के जातक को जीवन भर लाल मूंगा धारण करना चाहिए।

धनु लग्न

धनु लग्न में मंगल पंचम भाव (बच्चों के सुख, शिक्षा, धन और प्रगति) का स्वामी बनता है, जो व्यक्ति को जीवन में भाग्यशाली बनाते हुए बहुत उन्नति, धन और उन्नति देता है,

व्यक्ति को अच्छी शिक्षा प्रदान करता है, संतान सुख की प्राप्ति करता है, घर में शुभ कार्यक्रम आयोजित करता है,

इसलिए धनु लग्न के जातकों के लिए मंगल बहुत ही शुभ होता है और मंगल का रत्न लाल मूंगा धारण करने से अनेक लाभ मिलते हैं धनु लग्न के जातक हमेशा के लिए lal moonga धारण कर सकते हैं।

मकर लग्न

मकर लग्न में मंगल चतुर्थ भाव (माता और सुख) का स्वामी और (ग्यारहवां भाव) लाभ स्थान का स्वामी बनता है।

मकर लग्न का स्वामी शनि और मंगल आपस में भयंकर शत्रु हैं इसलिए मकर लग्न के जातकों को लाल मूंगा धारण करने से बचना चाहिए।

कुछ विशेष परिस्थितियों में जैसे मंगल पहले, चौथे या ग्यारहवें भाव में बैठा हो तो मंगल की महादशा में लाल मूंगा धारण किया जा सकता है, लेकिन फिर भी किसी ज्योतिषी की सलाह लेनी चाहिए।

मीन लग्न

मीन लग्न की कुंडली में मंगल बहुत ही लाभकारी और भाग्यशाली ग्रह की भूमिका निभाता है, मीन लग्न में मंगल द्वितीय भाव (धन भाव) और नवम भाव (भाग्य का स्थान) का स्वामी बनता है।

मीन लग्न में लाल मूंगा धारण करने से दोनों ही भाव बहुत लाभकारी होते हैं, जातक अपने जीवन में अप्रत्याशित रूप से उन्नति करता है, जीवन में धन कमाता है, प्रसिद्धि प्राप्त करता है, विदेश यात्रा करता है, आयात निर्यात का व्यवसाय करता है, नौकरी में उच्च पद प्राप्त करता है, राजनीति में, फिर उसमें उच्च स्थान प्राप्त करता है, उच्च शिक्षा प्राप्त करता है,

इसलिए मीन राशि के जातकों को अपने जीवन में lal moonga अवश्य धारण करना चाहिए।

Leave a Comment

सूर्य रत्न माणिक्य कौन धारण कर सकते है पन्ना रत्न किसे पहनना चाहिए