लग्न के अनुसार मोती धारण के लाभ moti ke fayde

चंद्र का रत्न मोती व्यक्ति के जीवन को बहुत ही सफल और भाग्यशाली बना सकता है, आइए जानते हैं लग्न के अनुसार मोती धारण के लाभ

चंद्र

सूर्य के प्रकाश से शक्ति प्राप्त करने वाला ग्रह चन्द्रमा सबसे सुन्दर और शांत ग्रह है,
चंद्रमा व्यक्ति के दिल और दिमाग को नियंत्रित करता है, व्यक्ति की याददाश्त, बुद्धि, भावना, रक्त, दाहिनी आंख, छाती, फेफड़ों पर नियंत्रित करता है।

चंद्रमा व्यक्ति के व्यावहारिक जीवन में कला के क्षेत्रों का प्रतिनिधित्व करता है जैसे ललित कला, कविता, साहित्यिक लेखन, गीत-संगीत, रंगमंच, दवा व्यवसाय, खाद्य व्यवसाय, नमक और पानी का व्यवसाय, सिंचाई कार्य, कांच व्यवसाय, आयात-निर्यात, माता की खुशी और सामाजिक प्रसिद्धि,
व्यक्ति के जीवन के इन क्षेत्रों पर चंद्रमा का विशेष अधिकार होता है, यदि किसी की जन्म कुंडली में चंद्रमा अनुकूल और लाभकारी हो तो व्यक्ति इन क्षेत्रों में अच्छी प्रगति करता है,

इसके विपरीत यदि जातक की कुंडली में चंद्रमा अशुभ हो तो जातक अपने जीवन में इन क्षेत्रों में हानि, कष्ट और दहशत का शिकार होता है।

पाश्चात्य मत अनुसार रत्न धारण

चंद्र रत्न मोती

मोती चंद्रमा का संबंधित रत्न है, यदि किसी व्यक्ति की कुंडली में चंद्रमा की शक्ति और प्रभाव की कमी हो तो ऐसी स्थिति में चंद्रमा के रत्न मोती को धारण किया जाता है, मोती धारण करने से चंद्रमा को बल मिलता है,

चंद्रमा की स्थिति के अनुसार सभी लग्नों में भी चंद्रमा का रत्न मोती का अलग-अलग प्रभाव पड़ता है, आइए इस पोस्ट से जानकारी प्राप्त करते हैं कि किस लग्न में चंद्रमा का शुभ या अशुभ प्रभाव पड़ता है और लग्न के अनुसार मोती धारण के लाभ

मेष लग्न

जिस भी व्यक्ति का लग्न “मेष” हो तो समझ लें कि चन्द्रमा उसकी कुण्डली में चतुर्थ भाव का स्वामी होगा।
मेष लग्न के स्वामी मंगल और चंद्रमा घनिष्ठ मित्र हैं और साथ ही चतुर्थ भाव, माता का घर, संपत्ति, वाहन, शिक्षा, प्रगति, धन और सुख है।

इसलिए मेष लग्न के जातक यदि मोती धारण करते हैं तो उन्हें मानसिक शांति, वाहन सुख, अच्छी शिक्षा, भूमि लाभ, आर्थिक उन्नति और माता का सुख मिलता है।
मेष राशि के लोग लाल मूंगा और मोती रत्न की अंगूठी एक साथ धारण करें तो और भी शुभ फल प्राप्त होते हैं।

zodiac-sign

वृषभ लग्न

वृष लग्न की कुंडली में चंद्रमा श्रम भाव (तीसरा भाव) का स्वामी बनता है, जिसे ज्योतिष में कभी भी शुभ नहीं माना गया है।
इस भाव को केवल व्यर्थ परिश्रम का भाव माना जाता है, इस भाव में चन्द्रमा ही हानि पहुँचाता है इसलिए वृष लग्न के जातकों के लिए मोती धारण करना कभी भी शुभ नहीं माना जाता है।

मिथुन लग्न

मिथुन लग्न में चंद्रमा धन का स्वामी (द्वितीय भाव) बनता है, ज्योतिष में द्वितीय भाव को मारक माना गया है।
इसलिए मिथुन लग्न के लोगों को भी चंद्रमा का रत्न मोती धारण करने से बचना चाहिए।
कुछ परिस्थितियों में जैसे चन्द्रमा दूसरे या दशम भाव में हो तो चन्द्रमा की महादशा में मोती धारण किया जा सकता है।

कर्क लग्न

कर्क लग्न के जातकों के लिए चन्द्रमा लग्न का स्वामी होता है, अतः प्रत्येक कर्क लग्न के लिए मोती सबसे भाग्यशाली रत्न होता है।
मोती कर्क राशि के जातकों को मानसिक, शारीरिक शक्ति, आर्थिक समृद्धि, प्रसिद्धि और धन लाभ प्रदान करते हैं, इसलिए कर्क राशि के जातकों को जीवन भर मोती धारण करना चाहिए।

सिंह लग्न

सिंह लग्न में चंद्रमा (द्वादश भाव) खर्च, परेशानी और परेशानियों का कारक होता है इसलिए सिंह लग्न के लोगों को कभी भी मोती नहीं पहनना चाहिए।

लग्नानुसार रत्न निर्धारण

कन्या लग्न

कन्या लग्न में चंद्रमा लाभ भाव (ग्यारहवें भाव) का स्वामी होता है, जो कीर्ति, लाभ, आर्थिक लाभ का स्वामी होता है।
इसलिए कन्या लग्न के जातकों को मोती धारण करने से लाभ तभी मिलता है जब चन्द्रमा की महादशा में चन्द्रमा चतुर्थ, नवम या एकादश भाव में हो।

तुला लग्न

तुला लग्न में चंद्रमा दशम भाव (व्यवसाय, नौकरी, प्रसिद्धि) का प्रतिनिधित्व करता है, यदि तुला लग्न के जातक की कुंडली में चंद्रमा नवम या दशम भाव में हो तो ही चंद्रमा की महादशा में मोती धारण किया जा सकता है।

वृश्चिक लग्न

वृश्चिक लग्न की कुण्डली में चन्द्रमा बहुत ही भाग्यशाली और शुभ ग्रह है, वृश्चिक लग्न में चन्द्रमा भाग्य का स्वामी (नौवां भाव) है।
वृश्चिक लग्न के जातकों को मोती धारण करने से आर्थिक लाभ, यात्रा लाभ, आध्यात्मिक लाभ, भाग्य, पैतृक संपत्ति, उच्च शिक्षा और धन की प्राप्ति होती है।
इसलिए हर वृश्चिक लग्न के जातक को मोती धारण करना चाहिए।

धनु लग्न

धनु लग्न में चंद्रमा (अष्ठम भाव) का स्वामी है, जिसे मृत्यु स्थान कहा जाता है, धनु लग्न में चंद्रमा रोग, मृत्यु और अवसाद का कारण बनता है,
इसलिए किसी भी धनु लग्न के जातक को कभी भी मोती नहीं पहनना चाहिए।

भाग्यशाली रत्न

मकर लग्न

मकर लग्न में चंद्रमा सप्तम भाव (विवाह स्थान) का स्वामी बनता है, चंद्रमा विवाह के लिए शुभ ग्रह माना जाता है।
इसलिए मकर लग्न के जातक जब चतुर्थ, पंचम, सप्तम या नवम भाव में स्थित हो तो मकर राशि के जातक मोती धारण करने से लाभ प्राप्त कर सकते हैं।

कुंभ लग्न

कुम्भ लग्न में चन्द्रमा छठे भाव (रोग, ऋण और शत्रु) का स्वामी बनता है।
कुम्भ लग्न के जातकों को मोती धारण करने से केवल रोग, ऋण और शत्रु ही प्राप्त होते हैं।
इसलिए किसी भी कुंभ लग्न के जातक को कभी भी मोती नहीं पहनना चाहिए।

मीन लग्न

मीन लग्न में चन्द्रमा पंचम भाव (संतान सुख, धन, प्रतिष्ठा, उन्नति, शिक्षा) का स्वामी बनता है।
मीन राशि के जातकों के लिए मोती सबसे अच्छा रत्न होता है।
इसलिए मीन राशि के जातकों को इन सभी सुखों को बढ़ाने के लिए हमेशा मोती धारण करना चाहिए।

मोती के साथ वर्जित रत्न

जब भी मोती धारण करें तो इस बात का विशेष ध्यान रखना चाहिए कि चन्द्रमा के मोती के साथ हीरा, पन्ना, गोमेद या नीलम कभी भी धारण नहीं करना चाहिए।

Leave a Comment

सूर्य रत्न माणिक्य कौन धारण कर सकते है पन्ना रत्न किसे पहनना चाहिए