मिथुन राशि के जातकों का राशि रत्न और भाग्यशाली रत्न

मिथुन राशि के जातक जब अपना भाग्यशाली रत्न धारण करने के बारे में सोचते हैं तो उनके मन में यह जानने की जिज्ञासा होती है कि ऐसा कौन सा रत्न धारण करना चाहिए जिससे उनके जीवन में खुशियां आए, आइए जानते हैं मिथुन राशि के जातकों का राशि रत्न और भाग्यशाली रत्न

मिथुन राशि

मिथुन राशि की राशि ‘युवा जोड़े’ की होती है, इस राशि का स्वभाव द्विस्वभाव का होता है, मिथुन राशि का स्वामी ग्रह बुध होता है,
बुध ज्ञान, बुद्धि, शिक्षा, धन और व्यापार का कारक है।

Read also: मिथुन जातकों के बारे में और जानें

मिथुन राशि के लोग

मिथुन राशि के लोग बुद्धिमान, अध्ययनशील और विनोदी होते हैं, लेकिन इनका दिमाग अस्थिर होता है,
वे बार-बार अपने विचार और मनोदशा बदलते रहते हैं, कोई काम नहीं कर पाते हैं और किसी भी काम में बहुत जल्दी निराश हो जाते हैं,
हर समय बेचैन रहने वाले मिथुन राशि के लोग अपनी पिछली गलतियों को लेकर हमेशा चिंतित रहते हैं,

मिथुन राशि के जातक अपने जीवन में बहुत सक्रिय होते हैं, शिक्षा प्राप्त करने में अच्छे होते हैं, बहुत होशियार होते हैं, ये अपनी बुद्धि और बोलने के कौशल से सभी को मोहित कर लेते हैं।
ये लोग ऐसे कामों में ज्यादा सफल होते हैं जिनमें मेहनत से ज्यादा बुद्धि का इस्तेमाल होता है।

मिथुन राशि के जातक शिक्षा विभाग, शेयर बाजार, संपादन, प्रकाशन, लेखन कार्य, गणितज्ञ, बैंक, रेलवे, डॉक्टर, व्यवसायी, शिक्षक, प्रोफेसर, ट्रेडिंग कार्य, एजेंसी आदि जैसे कार्यों से जुड़े हुए होते है।

मिथुन राशि के जातकों का महिलाओं के प्रति विशेष आकर्षण होता है, अक्सर इनका कोई न कोई प्रेम प्रसंग चलता रहता है।

zodiac-sign

मिथुन राशि के जातकों का राशि रत्न

बुध का रत्न 'पन्ना
बुध का रत्न ‘पन्ना

पन्ना

मिथुन राशि के जातकों का स्वामी ग्रह ‘बुध’ है, इसलिए बुध का रत्न ‘पन्ना‘ उनका भाग्यशाली रत्न है,

मिथुन राशि के जातकों को पन्ना रत्न हमेशा के लिए धारण करना चाहिए, पन्ना धारण करने से मिथुन राशि के जातकों की बौद्धिक क्षमता में वृद्धि होती है, व्यापार और आर्थिक उपलब्धियों में वृद्धि होती है, उनके जीवन में धन का प्रवाह बढ़ता है, यह उच्च शिक्षा पूर्ण करने में मदद करता है, समाज में सम्मान देता है, नौकरी में उच्च पद की प्राप्ति करवाता है, कारोबारी और आर्थिक उनत्ति।

पन्ना धारण करने से मिथुन राशि के जातक जीवन में हर प्रकार की उन्नति करते हैं, शारीरिक और मानसिक शक्ति प्राप्त करते हैं,
इसलिए हर मिथुन राशि के जातक को हमेशा-हमेशा के लिए पन्ना धारण करना चाहिए।

लग्नानुसार रत्न निर्धारण

मिथुन राशि के जातकों का भाग्यशाली रत्न

मिथुन राशि के लोगों का भाग्यशाली रत्न पीला पुखराज और सुलेमानी हकीक है।

पीला पुखराज
पीला पुखराज

पीला पुखराज

पीला पुखराज बृहस्पति का रत्न है, बृहस्पति ज्ञान, धन, आर्थिक प्रगति, धार्मिक कार्यों के कार्य, उच्च शिक्षा, राजनीति, सम्मान और सम्मान का देवता है।
पीला पुखराज धारण करने वाले व्यक्ति को ये सभी लाभ मिलते हैं, इसलिए पीला पुखराज धारण करने से मिथुन राशि के जातकों को ये सभी लाभ विशेष रूप से प्राप्त होते हैं क्योंकि पीला पुखराज इनका भाग्यशाली रत्न है,

पीला पुखराज धारण करने से मिथुन राशि वालों को जीवन के हर क्षेत्र में सफलता मिलती है, इस रत्न को धारण करने से मिथुन राशि के जातकों के जीवन में सुख-शांति बनी रहती है, स्मरणशक्ति और बौद्धिक शक्ति बढ़ती है,
और मिथुन राशि के लोग अपने जीवन में उन्नति करते चले जाते हैं।

सुलेमानी हकीक
सुलेमानी हकीक

सुलेमानी हकीक

मिथुन राशि के जातकों का दूसरा जन्म रत्न सुलेमानी हकीक है, सुलेमानी हकीक (अगेट) अलग-अलग रंगों में पाया जाता है, अगेट पर धारियां भी होती हैं,
जिन सुलेमानी हकीक में लाल और पीली धारियां होती हैं, उन सुलेमानी हकीक में अधिक गुण और लाभ होते हैं,

भाग्यशाली रत्न

प्राचीन काल के लोगों की मान्यता थी कि इस रत्न को धारण करने से देवताओं की कृपा प्राप्त होती है, इस रत्न को धारण करने से बुद्धि तेज होती है, व्यक्ति बहुत अच्छा वक्ता बनता है और उसे बहुत प्रसिद्धि मिलती है, जातक है लोगों द्वारा पसंद किया गया। बन जाता है,
यूरोपीय और अमेरिकी लोगों का मानना ​​था कि सुलेमानी हकीक (अगेट रत्न)को धारण करने से पूर्वजों का धन मिलता है और यह रत्न धोखे से बचाता है और सफलता देता है।

Leave a Comment

सूर्य रत्न माणिक्य कौन धारण कर सकते है पन्ना रत्न किसे पहनना चाहिए