पन्ना रत्न के नुकसान panna pahanne ke nuksan

ऐसा नहीं है कि पन्ना एक शुभ रत्न है, इसलिए इसे कोई भी पहन सकता है, पन्ना न केवल लाभ बल्कि नुकसान भी पहुंचा सकता है, आइए जानते हैं पन्ना रत्न के नुकसान और किस लग्न के जातक पन्ना रत्न धारण कर सकते है।

पन्ना रत्न किसे धारण करना चाहिए

जैसा कि हम सभी जानते हैं कि बुध ग्रह का ‘प्रतिनिधि रत्न’ पन्ना है, जब जन्म कुण्डली में बुध ग्रह कमजोर या पीड़ित हो तो पन्ना रत्न धारण करने की सलाह दी जाती है,

मिथुन और कन्या लग्न और राशियों के लोगों के लिए भी पन्ना रत्न भाग्यशाली रत्न है। पन्ना को अंग्रेजी में “Emerald” और संस्कृत में “मरकत” कहा जाता है।

बुध ग्रह विद्या, शिक्षा, बुद्धि, कला, संचार, वाणी, तर्क, व्यापार, गणित और लेखांकन का कारक है।
पन्ना रत्न धारण करने से व्यक्ति को इन क्षेत्रों में महारत हासिल होती है।

पन्ना रत्न को धारण करने से पहले एक बार किसी ज्योतिषी से सलाह अवश्य लेनी चाहिए।
ऐसा करने से आपको यह जानकारी मिलेगी कि आपकी ‘जन्म कुंडली’ में बुध का स्थान क्या है और आपको कितने कैरेट का पन्ना धारण करना है और कितने समय के लिए करना है।

zodiac-sign

आइए जानते हैं कौन से लग्न के जातक पन्ना रत्न धारण कर सकते हैं।

मेष लग्न

मेष लग्न के जातकों के लिए बुध पराक्रम (तीसरा भाव) और कर्ज (छठे भाव) का स्वामी है।

इसलिए मेष लग्न के जातकों के लिए बुध कभी भी लाभकारी नहीं रहेगा, मेष लग्न के जातकों के लिए पन्ना पहनना हानिकारक होगा।

वृषभ लग्न

वृष लग्न के जातकों के लिए बुध धन (द्वितीय भाव) और संतान सुख, शिक्षा और आर्थिक लाभ (पंचम भाव) का स्वामी है।
दोनों ‘भाव’ लाभदायक हैं,

वृष लग्न के जातकों के लिए पन्ना धारण करना बहुत ही लाभकारी होता है, पन्ना धारण करने से वृष राशि वालों को धन, व्यापार में लाभ और संतान सुख की प्राप्ति होती है।

मिथुन लग्न

मिथुन लग्न में बुध स्वामी है, इसलिए प्रत्येक मिथुन लग्न के लिए पन्ना रत्न भाग्यशाली, समृद्ध और सफलता का करक होता है।

प्रत्येक मिथुन लग्न के लिए पन्ना धारण करना अत्यंत आवश्यक है।

कर्क लग्न

कर्क लग्न के जातकों के लिए बुध पराक्रम (तीसरा भाव) और व्यय (बारहवां भाव) का स्वामी बनता है, दोनों भाव शुभ नहीं हैं।

कर्क राशि के जातकों को पन्ना धारण करने से धन की हानि होगी इसलिए कर्क लग्न के जातकों को कभी भी पन्ना धारण नहीं करना चाहिए।

सिंह लग्न

सिंह लग्न की कुंडली में बुध धन (द्वितीय भाव) और शुभ भाव (ग्यारहवां भाव) का स्वामी है, दोनों भाव लाभकारी हैं।

इसलिए सिंह लग्न के जातक जन्म कुंडली में बुध की दशा देखकर बुध की महादशा में पन्ना धारण कर सकते हैं।

कन्या लग्न

कन्या लग्न में बुध का स्वामी होता है इसलिए हर कन्या लग्न के जातक को जीवन भर पन्ना धारण करना चाहिए।

तुला लग्न

तुला लग्न की कुंडली में बुध भाग्य का स्वामी (नौवां भाव) और व्यय स्थान (बारहवां भाव) का स्वामी बनता है।
भाग्य स्थान का स्वामी होने के कारण तुला राशि के जातकों के लिए बुध बहुत ही लाभकारी और योग ग्रह होगा।

इसलिए तुला राशि के जातकों के लिए पन्ना धारण करना भाग्य, धन, उन्नति, शिक्षा और आर्थिक उन्नति के लिए काफी फायदेमंद साबित होगा।

वृश्चिक लग्न

वृश्चिक लग्न की कुंडली में बुध रोग भाव (आठवें भाव) और शुभ भाव (ग्यारहवें भाव) का स्वामी है।
वृश्चिक लग्न की कुंडली में बुध को योगकारक ग्रह बिल्कुल भी नहीं माना गया है।

इसलिए वृश्चिक लग्न के जातकों को कभी भी पन्ना धारण नहीं करना चाहिए।

धनु लग्न

धनु लग्न की कुंडली में बुध विवाह स्थान (सप्तम भाव) और कर्म भाव (दशम भाव) का स्वामी है, जो लाभकारी है।

इसलिए धनु लग्न के जातक किसी भी ज्योतिषी से अपनी जन्म कुंडली का विश्लेषण कर पन्ना धारण करने का निर्णय ले सकते हैं।

मकर लग्न

मकर लग्न की कुण्डली में नवम भाव का स्वामी बुध है, नवम भाव किसी भी व्यक्ति के लिए अत्यंत लाभकारी भाव है, नवम भाव से जातक अपने जीवन में उन्नति करता है और अपने जीवन के शीर्ष स्थान पर पहुंचता है,

मकर लग्न की कुंडली में बुध बहुत ही लाभकारी और योग ग्रह है इसलिए मकर लग्न के जातकों को पन्ना अवश्य धारण करना चाहिए।

कुंभ लग्न

कुम्भ लग्न की कुंडली में बुध की मिथुन राशि (लाभ, शिक्षा और संतान भाव) पंचम भाव का स्वामी बनता है और बुध की दूसरी कन्या राशि रहस्यों और गूढ़ विषयों (आठवें भाव) का स्वामी बनती है।

इसलिए कुम्भ लग्न के जातकों के लिए भी पन्ना धारण करना बहुत लाभकारी होता है।

मीन लग्न

मीन लग्न के लोगों की जन्म कुंडली में बुध संपत्ति भाव (चौथा घर) और विवाह भाव (सप्तम भाव) का स्वामी होता है, दोनों ही शुभ और लाभकारी होते हैं।

इसलिए बुध की महादशा में ही कुंडली में बुध की स्थिति को देखते हुए ही पन्ना रत्न धारण किया जा सकता है।

शुभ बुध ग्रह

बुध से प्रभावित लोग हंसमुख, कल्पनाशील, कवी, लेखक, कविता प्रेमी, संगीत और खेल में रुचि रखने वाले, शिक्षित, लेखन में प्रतिभाशाली, गणितज्ञ, वाणिज्य में विशेषज्ञ और व्यवसायी होते हैं।

जिन लोगों की जन्म कुंडली में बुध ग्रह का शुभ प्रभाव होता है, ऐसे लोग बहुत खुश, बड़े सपने देखने वाले, कलाकार, उच्च शिक्षित, बड़े व्यवसायी, वक्ता, गणितज्ञ, प्रोफेसर, वाणिज्य गुरु, बैंकर, चार्टर्ड अकाउंटेंट, जज आदि हो सकते हैं।

ऐसे लोगों के पास बोलने की बहुत अच्छी कला होती है, वे बहुत अच्छे वक्ता होते हैं, वे बहुत अच्छे वक्ता होते हैं, वे सफल व्यवसायी होते हैं, कविताओं के लेखक, प्रकाशक, लेखक या कोई और कल, क्षेत्र में उनके पास प्रतिभा होती है, प्रमुख व्यक्ति होता है एक सफल विपणन व्यक्ति या सेल्समैन हो सकते हैं,

बुध राशि के जातक बुद्धिमान, बुद्धिजीवी होते हैं, जो अपनी वाणी से सभी को मोहित कर लेते हैं, आकर्षक व्यक्तित्व के स्वामी होते हैं।

लग्नानुसार रत्न निर्धारण

पन्ना रत्न के नुकसान

आइए अब जानते हैं कि किसकी जन्म कुंडली में बुध अशुभ है, पन्ना रत्न धारण करने से क्या-क्या अन्य पन्ना रत्न के नुकसान होते हैं।

  • यदि किसी व्यक्ति की कुंडली में मिथुन और कन्या राशि अशुभ भाव की स्वामी हो, यानि दूसरे, तीसरे, छठे, आठवें, ग्यारहवें और बारहवें भाव, तो ऐसे व्यक्तियों के लिए पन्ना पहनना बहुत हानिकारक हो सकता है।
  • जिन लोगों की जन्म कुंडली में बुध नीच का होता है उन्हें भी पन्ना रत्न बहुत नुकसान पहुंचा सकता है।
  • मेष, कर्क और वृश्चिक लग्न के जातकों को कभी भी पन्ना धारण नहीं करना चाहिए, सिंह, धनु और मीन लग्न के जातकों को अपनी जन्म कुंडली का सावधानीपूर्वक विश्लेषण करने के बाद ही बुध की महादशा में ही पन्ना धारण करना चाहिए।
  • यदि बुध अशुभ भावों का स्वामी हो तो जातक की बुद्धि नीची होगी, उसकी शिक्षा में बाधा आएगी, वाणी दोष होगा, बार-बार भूलने की बीमारी होगी, आर्थिक हानि होगी, व्यवसाय में निरंतर हानि होगी , शारीरिक रोगों में गले के रोग हो सकते हैं, स्नायु रोग, नपुंसकता, अस्थि रोग, मानसिक रोग, चर्म रोग होने की प्रबल संभावना हो सकती है।

इसलिए जिन लोगों की जन्म कुंडली में बुध अशुभ प्रभाव में होता है, उन लोगों को कभी भी पन्ना रत्न नहीं धारण करना चाहिए, पन्ना रत्न धारण करने से ये सभी समस्याएं आएंगी अन्यथा ऐसी समस्याएं बढ़ जाएंगी।

भाग्यशाली रत्न

पन्ना धारण करने के अन्य नुकसान

  • पन्ना धारण करने से चर्म रोग हो सकते हैं, त्वचा हो सकती है संक्रमित,
  • बुद्धि का भ्रम हो सकता है, वाणी, हकलाना जैसी समस्या हो सकती है,
  • लिखने में दिक्कत हो सकती है, पढ़ना बंद हो सकता है,
  • व्यापार में नुकसान हो सकता है और आर्थिक स्थिति खराब हो सकती है,
  • करियर का नुकसान हो सकता है या अचानक डिमोशन हो सकता है,
  • प्रेमिका से धोखा मिलने की पूरी संभावना हो सकती है,
  • पारिवारिक संबंध बिगड़ सकते हैं, सामाजिक कलंक लग सकता है,
  • धन की हानि या धन की चोरी, संपत्ति विवाद की प्रबल संभावना हो सकती है,
  • यहां तक कि नपुंसकता भी हो सकती है।

Leave a Comment

सूर्य रत्न माणिक्य कौन धारण कर सकते है पन्ना रत्न किसे पहनना चाहिए