मिथुन राशि के गुण अवगुण mithun rashi ka swabhav

मिथुन राशि के लोग अपने दोहरे स्वभाव के लिए जाने जाते हैं, जो कभी उनके लिए फायदेमंद साबित होते हैं तो कभी उन्हें नुकसान पहुंचते हैं, आइए मिथुन राशि वालों के जीवन के बारे में कुछ जानकारी प्राप्त करें और कुछ मिथुन राशि के गुण अवगुण mithun rashi ka swabhav को जानें।

Table of Contents

मिथुन राशि

21 मई से 27 जून के बीच जन्म लेने वालों की राशि मिथुन मानी जाती है।

मिथुन आकाश वृत्त में तीसरा स्थान है, मिथुन राशि का स्वामी बुध ग्रह है, इसका रंग हरा है और इसकी प्रतिनिधि संख्या 5 है।
मिथुन राशि में जन्म लेने वाले लोग मध्यम कद के, गहरे रंग के और पश्चिम दिशा में प्रगति करने वाले होते हैं।

  • ज्योतिष शास्त्र के अनुसार मिथुन राशि का स्वामी बुध ग्रह है।
  • मिथुन राशि का चिन्ह जुड़वा कन्याओं का है,
  • मिथुन राशि का रत्न पन्ना है,
  • पेट, जीभ, फेफड़े, नसों, पित्त और मांसपेशियों पर मिथुन का अधिकार है,
  • सिंह, वृष और तुला मिथुन राशि की मित्र राशियाँ हैं,
  • इसकी शत्रु राशियाँ कर्क, मेष, वृश्चिक हैं।

Read also: मिथुन जातकों के बारे में और जानें

मिथुन राशि के सफल क्षेत्र

मिथुन ज्ञान, बुद्धि, कला, शिल्प कौशल का प्रतिनिधित्व करता है, मिथुन महत्वाकांक्षी विचारों का है,
मिथुन लेखन, पत्रकारिता, प्रकाशन, संपादन, शिल्प, पेंटिंग, गायन, खेल, मुनीम, खजांची, विक्रेता, मध्यस्थ, दलाल, स्टॉक व्यापारी, चार्टर्ड एकाउंटेंट, कंप्यूटर व्यवसायी, प्रोफेसर, न्यायाधीश, वकील आदि का प्रतिनिधित्व करता है।

मिथुन राशि के जातकों की कुंडली में बुध ग्रह बली हो तो इस राशि के जातकों को अपने जीवन में बहुत उन्नति और यश की प्राप्ति होती है, धनवान बनते हैं और सामाजिक ख्याति प्राप्त करते हैं।

मिथुन राशि के व्यक्ति की शारीरिक रचना

ज्योतिष गणना के आधार पर मिथुन राशि के जातकों का व्यक्तित्व आकर्षक होता है, ये शारीरिक रूप से स्वस्थ और मजबूत होते हैं, इनमें बोलने की अद्भुत कला होती है, ये अपनी वाणी से सभी को मोह लेते हैं, इन्हें यात्रा करने का बहुत शौक होता है और एक खास बात, मिथुन राशि के लोग बिजनेस इंटेलिजेंस वाले होते हैं,

मिथुन राशि के जातकों को पढ़ने का बहुत शौक होता है बचपन से ही इनका रुझान शिक्षा की ओर होता है, इन्हें ऐसा कोई भी काम पसंद नहीं आता जिसमें शारीरिक मेहनत लगे,
वे केवल वही काम पसंद करते हैं जिनमें मानसिक श्रम (बुद्धि )शामिल हो।

मिथुन राशि के जातक अपने दोहरे स्वभाव के कारण कभी भी किसी एक कार्य पर टिके नहीं रह पाते हैं।
इनका यही स्वभाव इन्हें जीवन में कई बार सफल नहीं होने देता,

मिथुन राशि के लोग अपना भविष्य खुद बनाते हैं, ये स्वभाव से काफी भावुक होते हैं और इन्हें बचपन में अपने माता-पिता का सुख कम ही मिलता है।

zodiac-sign

मिथुन राशि के जातक का स्वभाव

मिथुन राशि के जातकों का स्वभाव उनकी राशि “जुड़वां” जैसा ही होता है।
मिथुन राशि के लोग दोहरे स्वभाव और मानसिकता के होते हैं,
बुद्धिमान और तेज दिमाग वाले मिथुन राशि के लोग बहुमुखी और प्रतिभाशाली होते हैं, सभी राशियों में केवल मिथुन राशि के लोग ही ऐसे होते हैं जिन्हें समझना बहुत मुश्किल होता है,
मिथुन राशि के लोग बुद्धि और सोचने की क्षमता में बहुत तेज होते हैं, बुद्धि के मामले में ये अपने प्रतिद्वंद्वियों को सहजता से पीछे छोड़ देते हैं।

वे अपनी बुद्धि से सभी को मोहित कर लेते हैं, वे बहुत मिलनसार होते हैं, वे सबसे मेल-मिलाप से रहते हैं,
लेकिन वे ऐसा तब तक करते हैं जब तक उनका मूड है, अगर उनका मूड नहीं है तो हो सकता है कि वे आपसे बात करना भी पसंद न करें और न ही आप मिथुन राशि वालों पर भरोसा कर सकते हैं क्योंकि वे अपने वादे कभी नहीं निभाएंगे और ना पालन करेंगे,
वे ऐसा तब तक ही करेंगे जब तक उनका अपना स्वार्थ है।

मिथुन राशि के लोग अपने बारे में सोचते हैं कि वे सभी के प्रति बहुत वफादार होते हैं, लेकिन यह सोच उनकी अपनी है और उनका स्वभाव लगातार बदलता रहता है,

मिथुन राशि के जातकों की अगर किसी योजना की बात की जाए तो वे इसे बहुत जल्दी समझ जाते हैं, मिथुन राशि के जातक अगर किसी काम को गंभीरता से लें तो उसमें वे बहुत जल्द अच्छी सफलता हासिल कर सकते हैं।

जहां तक ​​धन कमाने की बात है तो मिथुन राशि के जातकों को अपनी बुद्धिमानी, तेज दिमाग, सट्टेबाजी, शेयर, कंपनी प्रमोटरों और व्यापार में बहुमुखी प्रतिभा से अधिकतम सफलता मिलती है।
मिथुन राशि के लोग कूटनीतिक बातचीत, जनसंपर्क, देश-विदेश की यात्रा करने और अजनबियों के साथ व्यापार करने में बहुत माहिर होते हैं।

बुध ग्रह

बुध ग्रह सबसे सुंदर और युवा ग्रह है, इसलिए बुध ग्रह को राजकुमार भी कहा जाता है, बुध ग्रह को आकर्षक और मधुरभाषी ग्रह माना जाता है,
बुध निष्पक्ष, लंबा, आकर्षक और मधुरभाषी ग्रह है, बुध बुद्धि, अभिव्यक्ति, विद्या, गणित, न्यायशास्त्र, यांत्रिकी, खगोल विज्ञान, ज्योतिष, खगोल विज्ञान, लेखक, लेखाकार, आयुर्वेदाचार्य, कला क्षेत्र, प्रकाशन और व्यावसायिक कारक है।

मिथुन राशि का स्वामी बुध ग्रह बुद्धि, वाणी, विद्या, धन और सौंदर्य का स्वामी है।

यदि आपके जीवन में व्यापार और धन की कमी है, कर्ज बढ़ना शुरू हो गया है और आपकी शिक्षा में बाधाएं आ रही हैं, तो आपको समझना चाहिए कि बुध ग्रह आपकी जन्म कुंडली में कमजोर है,

जिन लोगों की कुंडली में बुध कमजोर होता है, वे लोग मानसिक रूप से कमजोर होते हैं, उन्हें चीजों को समझने में अधिक समय लगता है,

  • ज्योतिष शास्त्र के अनुसार बुध ग्रह की मित्रता सूर्य और शुक्र ग्रह से है।
  • बुध चंद्रमा को अपना शत्रु मानता है, शनि, मंगल और बृहस्पति का बुध ग्रह से समान संबंध है,
  • मिथुन और कन्या राशि पर बुध अपना अधिकार रखता है,
  • कन्या राशि में बुध उच्च का होता है, 15 अंश का हो तो अत्यंत उच्च का होता है,
  • मीन राशि में बुध नीच का है,
  • बुध ग्रह उत्तर दिशा का स्वामी है और बुध ग्रह नपुंसक ग्रह माना जाता है,
  • बुध ग्रह का मुख्य रत्न हरा पन्ना है।
  • बुध अश्लेषा, ज्येष्ठ और रेवती नक्षत्रों का स्वामी है।
  • बुध हरे रंग का प्रतिनिधित्व करता है,
  • बुध ग्रह हमेशा सूर्य के निकट रहता है,
  • बुध कुंडली में तीसरे और छठे भाव का प्रतिनिधित्व करता है।

मिथुन लग्न का रत्न-Mithun Lagna, Gemini Ascendant

शुभ और बलवान बुध

जिन लोगों की जन्म कुण्डली में बुध लग्नेश है या बुध ग्रह मिथुन या कन्या राशि में है और शुभ भाव में विराजमान है,
बुध की जन्म राशि हो, तो ऐसे जातकों पर बुध का पूर्ण प्रभाव पड़ता है।

यदि किसी व्यक्ति की जन्म कुंडली में बुध स्व, मित्र या उच्च राशि में हो तो ऐसी स्थिति में बुध बहुत ही शुभ और लाभकारी प्रभाव वाला होता है, जातक की प्रसिद्धि बहुत होती है, जातक बहुत अच्छा वक्ता, शिक्षित और बुद्धिमान होता है। . व्यापार और कई क्षेत्रों में सफल होने के लिए होता है,
लेखक, कला के क्षेत्र से जुड़े लोगों, शिल्पकारों और ज्योतिषियों का बुध अच्छा होता है,

जिन लोगों की जन्म कुंडली में ‘बुध’ शुभ और बलवान होता है, ऐसा व्यक्ति खुश, कल्पनाशील, कवि, लेखक, गीतकार, कलाकार, बुद्धिमान, अध्ययनशील, गणितज्ञ, व्यवसायी, व्यावसायिक रूप से कुशल होता है।

ऐसे लोग बहुत अच्छे वक्ता और व्यंग करने वाले होते हैं, इन्हें हँसी-मज़ाक और कविताएँ बहुत पसंद होती हैं।

बुध प्रधान लोग बहुत अच्छे सेल्समैन होते हैं और मार्केटिंग कार्यों में बड़ी सफलता प्राप्त करते हैं, बहुत प्रसिद्ध, सम्मानित और प्रिय प्रोफेसर या शिक्षक हो सकते हैं।

अशुभ और कमजोर बुध

यदि जन्म कुण्डली में बुध कमजोर या अशुभ हो तो जातक मानसिक रूप से कमजोर, बोलने में असमर्थ, मानसिक रोगी, कमजोर याददाश्त, आर्थिक समस्या, शिक्षा में बाधा, नपुंसकता, पेट के रोग, हड्डियों की कमजोरी, स्नायु रोगी होता है।

यदि कुंडली में बुध कमजोर हो तो व्यक्ति को बुध ग्रह से संबंधित उपाय और दान करना चाहिए।

लग्नानुसार रत्न निर्धारण

मिथुन राशि के जातकों के लक्षण-मिथुन राशि के गुण अवगुण

मिथुन राशि के जातकों पर अपने स्वामी ग्रह बुध का पूर्ण अधिकार होता है, जो उन्हें बहुत बुद्धिमान, बोलने की कला में निपुण, प्रखर वक्ता, मजाकिया और जानकार बनाता है, मिथुन राशि के लोग किसी भी विषय पर बहस करने के लिए हमेशा तैयार रहते हैं,
उन्हें लोगों के बीच रहना और उनके साथ बातचीत करना अच्छा लगता है, मिथुन राशि के लोग बहुत ही मिलनसार स्वभाव के साथ बहुत सहज और भावुक होते हैं।

मिथुन राशि के लोग मस्ती करना पसंद करते हैं, अपने जीवन में मस्ती करना पसंद करते हैं, वे अपना जीवन बहुत ही खुशहाल तरीके से जीना चाहते हैं, लेकिन जैसा कि आप जानते हैं कि हर राशि के अपने सकारात्मक और नकारात्मक गुण होते हैं, जिनका प्रभाव उनके जीवन पर पड़ता है।
कुछ ऐसे अच्छे और बुरे प्रभाव मिथुन राशि के जातकों पर भी पड़ते हैं, जिनका प्रभाव उनमें भी देखने को मिलता है,

आइए, ज्योतिष की दृष्टि से मिथुन राशि के जातकों के कुछ मिथुन राशि के गुण अवगुण की जानकारी प्राप्त करते है।

Read Also: मिथुन राशि के जातक और उनका करियर

मिथुन राशि के गुण:

लचीली प्रकृति:

मिथुन राशि के लोग स्वभाव से बहुत लचीले होते हैं, परिस्थितियों के अनुसार खुद को ढालने की क्षमता रखते हैं, वे अपने जीवन में निरंतर बदलाव चाहते हैं और नई चीजों और योजनाओं को आजमाने के लिए हमेशा तैयार रहते हैं,
वे हर नई शुरुआत करने के फायदे या नुकसान के बारे में कभी नहीं सोचते।
इनके लचीले स्वभाव में यह भी शामिल है कि ये लोग किसी भी समूह में परिस्थितियों के अनुसार खुद को ढाल लेते हैं और उनमें घुलमिल जाते हैं, इसी वजह से मिथुन राशि के लोगों को गिरगिट भी कहा जाता है।

मिलनसार स्वभाव:

मिथुन राशि के लोग लोगों से मिलना, लोगों के बीच रहना, सामाजिक रूप से सक्रिय रहना, उत्सवों में मस्ती करना पसंद करते हैं, मिथुन राशि के लोगों को एक ही जगह या घर में रहना बिल्कुल भी पसंद नहीं होता है,
उन्हें बाहर जाना और नई चीजें सीखना पसंद है।
मिथुन राशि के लोग हमेशा नई चीजों के बारे में सीखना पसंद करते हैं, वे किसी भी नए क्षेत्र में जाते हैं और नए लोगों के साथ बहुत आसानी से घुलमिल जाते हैं।

मस्ती भरा स्वभाव:

मिथुन राशि के लोग न केवल बुद्धिमान होते हैं, बल्कि अच्छे वक्ता भी होते हैं, जिनका उपयोग वे बहुत व्यंग्य और चुटकुलों में करते हैं, मिथुन राशि के लोग चुटकुले सुनना और बताना पसंद करते हैं, ताकि वे जहाँ भी बैठें, मस्ती का माहौल हो। जाता है,

उत्साही स्वभाव:

मिथुन राशि के जातकों में हर नई चीज और काम को लेकर काफी उत्साह होता है, वे नए काम और सूचनाओं को लेकर काफी उत्साहित रहते हैं, उनके बारे में जानकारी हासिल करने के लिए काफी उत्सुक रहते हैं,
उन्हें हर नई चीज के बारे में पता लगाना पसंद होता है और उनकी बुद्धि भी इसमें बहुत काम करती है, अपने उत्साही स्वभाव के कारण, मिथुन राशि के लोग अपने विचारों को सभी के साथ साझा करते हैं।

चतुर स्वभाव:

मिथुन राशि के लोग बहुत ही ज्ञानी और बुद्धिमान होते हैं, उनके पास दिलचस्प चीजों का भंडार होता है, जिसे वे सभी के साथ साझा करते रहते हैं, अपने जिज्ञासु स्वभाव और ज्ञान चाहने वाले स्वभाव के कारण, मिथुन राशि के लोग हमेशा नई चीजों से अवगत रहना चाहते हैं। है,
मिथुन राशि के लोगों को पढ़ने और अपने आसपास की घटनाओं की जानकारी रखने का बहुत शौक होता है, यही कारण है कि मिथुन राशि के लोगों के पास ज्ञान का खजाना होता है।

अपनी बुद्धिमता के कारण मिथुन राशि के लोग अपने जीवन में हमेशा सतर्क रहते हैं, कोई भी निर्णय लेने से पहले अपने ज्ञान का पूरा उपयोग करें, यदि कोई उनसे किसी विषय पर बहस करता है, तो उस बहस में मिथुन व्यक्ति की हमेशा जीत होती है।

बहु प्रतिभावान:

मिथुन राशि के लोग बहुत ही बहुमुखी होते हैं, उनमें एक साथ कई कार्यों को करने की अद्भुत क्षमता होती है और इसमें वे श्रेष्ठ भी होते हैं,
मिथुन राशि के जातकों में अपने ज्ञान और बुद्धि के कारण बहु-कार्य करने का गुण होता है, जो उन्हें अपने कार्यों के बीच संतुलन बनाए रखने में मदद करता है।

मिथुन राशि के जातक जैसे ही किसी एक काम से ऊब जाते हैं तो तुरंत ही किसी दूसरे क्षेत्र में हाथ आजमाने लगते हैं। मिथुन राशि के लोग अपने पूरे जीवन में कई तरह के काम करते हैं।

भाग्यशाली रत्न

मिथुन राशि के अवगुण:-

सतही:

सब कुछ नया जानने की जिज्ञासा मिथुन जातकों को किसी भी कार्य पर ध्यान केंद्रित करने की अनुमति नहीं देती है, जिसके कारण उनका कोई भी काम पूरा नहीं होता है और ज्यादातर अधूरा रहता है,
यह ज्ञान और जिज्ञासा मिथुन राशि के जातकों के लिए भी हानिकारक साबित होती है और मिथुन राशि के जातक कभी भी किसी एक क्षेत्र में उस्ताद नहीं बन पाते हैं।

हेरफेर करने के लिए:

मिथुन राशि के जातकों में एक बड़ी बुराई यह भी होती है कि वे सामने वाले की बहुत तारीफ करते हैं लेकिन पीठ पीछे उसी व्यक्ति की बुराई भी करते हैं।
वे हमेशा मानते हैं कि चाहे वे गलत कहें या सही, सुनने वाले हमेशा उनकी बातों को सही मानते हैं,
मिथुन राशि के जातकों की बुरी आदतों में झूठी बातों को बढ़ा-चढ़ाकर पेश करना और उनमें हेर-फेर करना शामिल है।

मूडी स्वभाव:

मिथुन राशि के जातकों के स्वभाव को समझना बहुत मुश्किल होता है, ये अचानक से खुश हो जाते हैं और कुछ समय बाद गंभीर हो जाते हैं, इनका मूड बदलने में देर नहीं लगती,
मिथुन राशि के लोग किसी भी काम से बहुत जल्दी बोर हो जाते हैं ये कभी भी अपना ध्यान एक दिशा में नहीं लगा पाते हैं।

जीवन की गंभीरता:

मिथुन राशि के लोग जीवन को बहुत आसानी से ले लेते हैं, वे कभी भी किसी भी चीज को गंभीरता से नहीं लेते हैं और न ही हमेशा अपनी मस्ती में रहना पसंद करते हैं, जिसके कारण वे कभी भी किसी एक काम पर ध्यान केंद्रित नहीं कर पाते हैं।
अपने जीवन में चाहे वह उनका व्यवसाय हो या वैवाहिक जीवन, मिथुन राशि के लोग अपने जीवन के किसी भी काम को गंभीरता से नहीं लेते हैं।

चिंतित होने की:

मिथुन राशि के जातक हमेशा अपने जीवन को लेकर चिंतित रहते हैं, हमेशा दुविधा में रहते हैं और इस वजह से वे अपने जीवन में कभी भी सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन नहीं कर पाते हैं।

मिथुन राशि के जातक अपने दोहरे स्वभाव के कारण हमेशा बेवजह के तनाव से ग्रस्त रहते हैं और सोचते रहते हैं, जिससे कई बार ये डिप्रेशन के शिकार हो जाते हैं और इसका सीधा असर उनके मन और शारीरिक स्वास्थ्य पर पड़ता है।

मिथुन राशि के मित्र

मिथुन राशि के लोग दोस्तों के साथ समय बिताना पसंद करते हैं, हंसते हैं, कहानियां सुनाते हैं और तर्क करते हैं, मिथुन राशि के लोग नई चीजों के बारे में जानने के लिए बहुत उत्सुक होते हैं, इसलिए वे दोस्तों और लोगों के साथ समय बिताते हैं और जानकारियां भी प्राप्त करते है।

सिर्फ दोस्त ही नहीं मिथुन राशि के लोग अलग-अलग क्षेत्रों के लोगों के साथ समय बिताना भी पसंद करते हैं, मिथुन राशि के लोग अपने संपर्क में आने वाले हर व्यक्ति को अपना ज्ञान और जानकारी देने में और नई जानकारियां लेने में भी बहुत आनंद आता है।

बता दें कि मिथुन राशि के लोग किस राशि के जातकों के साथ अच्छे तालमेल से रहते हैं।

मिथुन राशि के जातकों का मेष, मिथुन, सिंह, तुला, धनु और कुंभ राशि के लोगों का साथ अच्छा रहता है, जब भी ये लोग मिलते हैं तो खूब मस्ती करते हैं।

मिथुन राशि की ‘दोस्ताना’ राशियाँ

मेष राशि

मिथुन राशि वालों का मेष राशि वालों से अच्छा तालमेल होता है, जब भी ये साथ होते हैं तो खूब मस्ती करते हैं,

इन दोनों का तालमेल इसलिए भी बैठता है क्योंकि दोनों में कुछ नया करने का स्वभाव होता है, दोनों नए कार्यों को अंजाम देने और जोखिम उठाने में खुश रहते हैं,
मनोरंजक और आकर्षक गतिविधियाँ मेष और मिथुन दोनों को करना पसंद है।

मिथुन राशि

मिथुन राशि के जातक अपनी ही राशि के मित्रों के साथ, अपने समान विचारों के कारण दोनों का आपस में अच्छा व्यवहार होता है,

दोनों आपस में खूब चर्चा करते हैं, मस्ती मजाक करते हैं, एक-दूसरे के दोस्तों से मिलते हैं और ढेर सारी सभाएं करते हैं और दोनों एक-दूसरे के विचारों से सहमत होते हैं।

इसलिए ये लोग आपस में काफी अच्छे दोस्त बन जाते हैं।

सिंह राशि

सिंह और मिथुन दोनों ही ऊर्जावान राशियाँ होने के कारण एक-दूसरे का साथ देते हैं, मिथुन राशि के लोग सिंह राशि के लोगों के साथ बहुत सहज महसूस करते हैं, दोनों बहुत जल्दी दोस्त बन जाते हैं,

दोनों राशियों के लोगों के पास कहने-सुनने को बहुत कुछ होता है इसलिए जब भी मिलते हैं तो खूब बातें करते हैं और हंसी-मजाक करते हैं।

दोनों में एक और समानता है और वो ये कि दोनों को कोई भी ऐसा काम करना पसंद नहीं है जिसमें उनकी एनर्जी खत्म हो जाए.

तुला राशि

तुला और मिथुन राशि के लोगों की खूब जमती है, क्योंकि दोनों को खूब मस्ती करना पसंद है, दोनों को घूमना-फिरना, खूबसूरती निहारना पसंद है,

इसलिए ये दोनों जब भी मिलते हैं तो काफी अटैच हो जाते हैं।

धनु राशि

हालांकि मिथुन और धनु दोनों की दिशाएं अलग-अलग हैं और विचार भी अलग-अलग हैं, फिर भी इन दोनों राशियों के लोगों का साथ अच्छा रहता है,

धनु राशि के लोग किसी भी बात को ज्यादा गंभीरता से नहीं लेते हैं इसलिए इन दोनों राशि के लोगों का आपस में मेल-जोल बढ़ जाता है।

कुंभ राशि

मिथुन राशि के जातकों का मेल-मिलाप और दोस्ती भी कुंभ राशि के लोगों को खूब भाती है, दोनों राशियों का मन बहुत जिज्ञासु और सतर्क होता है,

यह तालमेल दोनों को एक अच्छा साथी बनाए रखने में मदद करता है।

मिथुन राशि की प्रतिकूल राशियां

कन्या राशि और मीन राशि मिथुन राशि वालों के लिए सबसे प्रतिकूल राशि साबित होती है,
आइए इनके बारे में विस्तार से जानते हैं।

कन्या राशि

कन्या राशि के लोग मिथुन राशि के जातकों की तरह ही चालाक और अवसरवादी होते हैं।
दोनों का जीवन के प्रति दृष्टिकोण एक जैसा है और दोनों अपने आप को एक दूसरे से अधिक बुद्धिमान समझते हैं, जिसके कारण इन दोनों के बीच तालमेल बिल्कुल नहीं बैठ पाता है।

यही कारण है कि कन्या राशि के जातकों की दोस्ती मिथुन राशि वालों को बिल्कुल भी रास नहीं आती है।

मीन राशि

मीन राशि के लोग बहुत भावुक और जिम्मेदार होते हैं, जबकि मिथुन राशि के लोग शालीन, चंचल और लापरवाह होते हैं,

मीन राशि के जातकों का स्वभाव भी थोड़ा चिड़चिड़ा होता है, उन्हें किसी भी बात का बहुत जल्दी बुरा लगता है और मिथुन राशि के लोग हमेशा मस्ती में रहते हैं,
यही कारण है कि इन दोनों राशियों के लोगों के लिए एक साथ रहना काफी मुश्किल हो जाता है।

इसलिए मीन और कन्या राशि के लोग कभी भी अच्छे दोस्त नहीं हो सकते।

मिथुन प्रेम संबंध

मिथुन राशि के लोगों में महिलाओं को अपनी ओर आकर्षित करने की अच्छी कला होती है, वे अपने आकर्षक व्यक्तित्व और वाणी से महिलाओं से बहुत आसानी से दोस्ती कर लेते हैं,
उनका ध्यान लगातार प्यार में भटकता रहता है, उनकी पत्नी या प्रेमिका होते हुए भी वे दूसरी महिलाओं की ओर आकर्षित होते रहते हैं और यही कारण है कि मिथुन राशि के लोग कभी भी अपने वैवाहिक जीवन में और प्रेम संबंधों में सफल नहीं हो पाते हैं। हमेशा मानसिक रूप से परेशान रहते है।

प्रेम संबंधों और सेक्स के क्षेत्र में मिथुन राशि के लोगों का तुला राशि के साथ बहुत अच्छा तालमेल होता है, मिथुन राशि के लोगों का मेष राशि वालों के साथ तालमेल भी बहुत अच्छा होता है।

Read Also: मिथुन राशि के जातकों का राशि रत्न और भाग्यशाली रत्न

मिथुन राशि का वैवाहिक जीवन

अपने परोपकारी स्वभाव के कारण, मिथुन राशि के लोग अपने प्रेम संबंधों और वैवाहिक जीवन में ज्यादातर असफल होते हैं, उनका ध्यान हमेशा दूसरी महिलाओं की ओर आकर्षित होता है,
जिसका परिणाम केवल अनावश्यक झंझटों में फंसना ही होता है और इस स्वभाव के कारण मिथुन जातक अपने प्रेम संबंधों या यहां तक ​​कि अपने वैवाहिक जीवन को भी खराब कर रहा होता है।

वैसे तो मिथुन जातक अपनी पत्नी को अपनी तरफ से बहुत खुश रखने की कोशिश करता है और उसका पूरा ख्याल रखने की कोशिश भी करता है, लेकिन अपने दिलफेंक स्वभाव के कारण मिथुन जातक को अपने वैवाहिक जीवन में लगभग असफल ही देखा जा सकता है,

मिथुन राशि के जातकों की पत्नी यदि धैर्य से काम लें, ईर्ष्या या क्रोधित न हों, मिथुन राशि के जातकों के साथ चतुर व्यवहार करें, तो वह उन्हें अपने वश में रखने में सफल हो सकती है।

मिथुन राशि के लिए भाग्यशाली रत्न

मिथुन राशि के जातकों का शुभ और भाग्यशाली रत्न है ‘पन्ना’, मिथुन राशि का स्वामी बुध है और बुध ग्रह का रत्न ‘पन्ना’ वृद्धि, प्रगति, सामाजिक मान-सम्मान, आर्थिक और व्यावसायिक उन्नति, वैवाहिक सुख देता है।

पन्ना बुद्धि, शिक्षा, धन और व्यापार का कारक होता है और किसी भी व्यक्ति के जीवन में इन चीजों का विशेष महत्व होता है।
पन्ना धारण करने से बुध ग्रह के विशेष लाभ मिलते है और बुध ग्रह को बल मिलता है जिससे मिथुन राशि के जातकों को जीवन में अच्छी सफलता प्राप्त होती है, पन्ना रत्न अवश्य धारण करना चाहिए।

पन्ना धारण करने के भी कुछ नियम हैं, जिनकी उपेक्षा कभी नहीं करनी चाहिए, पन्ना को चांदी की अंगूठी में धारण कर बुधवार के दिन सूर्योदय के बाद शुभ मुहूर्त देखकर ही पूजा व जप पूरे विधि-विधान से करना चाहिए।
पन्ना रत्न की अंगूठी अनामिका या छोटी उंगली में धारण करनी चाहिए।

बुध मंत्रों की पूजा और जाप के बिना पन्ना रत्न निष्क्रिय रहेगा और उसे कोई लाभ नहीं मिलेगा।

Emrald,The gemstone of mercury

मिथुन राशि का शुभ रंग

मिथुन राशि के जातकों के लिए पीला, हरा और केसरिया शुभ रंग होते हैं, मिथुन राशि के जातक जब भी किसी विशेष कार्य की सफलता के लिए निकलते हैं तो उन्हें इन रंगों के कपड़े पहनने चाहिए, सफलता की संभावना बहुत बढ़ जाती है।

मिथुन राशि और लग्न का भाग्यशाली रत्न धारण

मिथुन लग्न के लिए शुभ अंक

मिथुन राशि के जातकों के लिए 5, 14, 23, 38, 41, 68 भाग्यशाली अंक हैं, यदि मिथुन राशि के लोग इन राशियों की तिथियों में कोई कार्य करते हैं तो उनकी सफलता की संभावना काफी बढ़ जाती है।

Leave a Comment

सूर्य रत्न माणिक्य कौन धारण कर सकते है पन्ना रत्न किसे पहनना चाहिए