tula rashi ke jatak kaise hote hain

tula rashi 

इस पोस्ट में हम जानेंगे की tula rashi के जातक कैसे होते हैं, उनका स्वाभाव कैसा होता है, उनका करियर, पारिवारिक और वैवाहिक जीवन कैसा होता है।

स्वामी ग्रह : शुक्र

tula rashi के जातकों का स्वामी ग्रह शुक्र है, शुक्र सुंदरता,भोग ,विलासिता का होता है  इसलिए तुला जातक हर खूबसूरत वस्तुओं के दीवाने होते है, सुंदरता , खूबसूरत जगहें, साफ सुथरे और सुन्दर कपडे, Perfume, गीत संगीत,सिनेमा, कला, भोग विलासिता वाली वस्तुएँ, अच्छे घर ,वाहन  पसंद करते हैं

tula rashi के जातकों का स्वाभाव 

tula rashi में जन्म लेने वाले जातक शांत स्वाभाव के होते है,ईमानदार और स्पष्टवादी विचारों के होते है। वह तन्हा नहीं रह सकते , हर समय किसी न किसी का साथ पसंद करते है। किसी भी कार्य को वह मिलजुल कर करना पसंद करते है। मिलजुल कर साथ रहना उनके लिए जरुरी है। 

tula rashi के जातकों को अच्छी किताबे पढ़ने का शौक होता है। ऐसे व्यक्ति जिनसे प्रेरणा मिलती हो, उन्हें तुला जातक पसंद करते है और उनसे प्रेरित होते है। अच्छे लोगों में दिलचस्पी लेते है। खूब बातें करना उन्हें बहुत पसंद आता है और उनके साथ विचार विमर्श करना उन्हें अच्छा लगता है। 

समाज के साथ जुड़े रहना और सामाजिक स्तर पर कुछ न कुछ करते रहना तुला जातकों को पसंद रहता है। निष्पक्ष होते है ,गलत का साथ नहीं देते , कोई भी निर्णय निष्पक्षतापूर्ण करते है। कोई भी कार्य सोच समझकर करते है अच्छे कूटनीतिज्ञ होते है। 

सभ्यता और शिष्टता उन्हें पसंद होती है, नम्रता भरा व्यवहार पसंद करते है। खुला माहौल और अपनी बातें सभी लोगों से साझा करना उन्हें पसंद होता है।  तुला जातकों को मिठास वाला वातावरण पसंद होता है, किसी भी तरह के विवादों से दूर रहते है, ऐसी जगहे जहां किसी भी प्रकार का टकराव होने की सम्भावना हो ,ऐसी जगहों से बचना चाहते है। 

tula rashi के जातक किसी भी प्रकार की हिंसा बिलकुल भी पसंद नहीं करते और ऐसे माहौल से कोसो दूर रहते है। 

 tula rashi वालों की प्रक्रति


तुला राशि के जातक बहुत अच्छे अवसरवादी और नीति कुशल होते है, अगर वह किसी समस्या में फसते है तो सोच विचार कर निर्णय लेते है, अपनी आकर्षण शक्ति और निति कुशलता का इस्तेमाल करते हुए वह अन्य लोगों की अपेक्षा बहुत जल्दी स्तिथियों को भाप लेते है,
जिसकी वजय से वह अपने जीवन में अन्य लोगो की अपेक्षा जल्दी किसी भी लक्ष्य को प्राप्त करने में सफलता प्राप्त करते है।

तुला राशि का चिन्ह बराबर पलड़ों वाला तराजू होता है, ठीक उसी के अनुरूप तुला जातकों का स्वाभाव भी होता है, तुला जातक कभी भी किसी भी तरह के अन्याय को बर्दाश्त नहीं करते और जब भी उन्हें न्याय करने का मौका मिलता है तो वह निष्पक्ष अपनी बात को रखते है।

शुक्र तुला राशि का स्वामी है, शुक्र सौन्दर्य और भोग का स्वामी है, यही कारण है की तुला जातक सौन्दर्य और खूबसूरती को बहुत पसंद करते है, फिर वह किसी भी प्रकार की क्यों ना हो,
तुला जातक बहुत कलात्मक होते है, गीत, संगीत, कलाकारी, पेंटिंग या अन्य ऐसी चीजें जिसमे कला का कार्य हो, उनमें तुला जातकों की बहुत रूचि होती है और वह ऐसे क्षेत्रों को अपने जीवन में अपनाते भी है और काफी सफलता और नाम भी कमाते है।
अगर तुला जातकों के आस पास कलात्मक वातावरण नहीं होगा तो उन्हें अपने जीवन में उदासी महसूस होती है।
तुला जातक अपने जीवन को खूबसूरती और पुरे आनंद के साथ भोगना पसंद करते है, अच्छा रहना, अच्छे कपडे पहनना, अच्छी गाड़ियां, सजना सवरना उनके जीवन का अहम हिस्सा है।

Read Also : लक्ष्मी नारायण के अन्य ज्योतिष संपर्क

तुला जातक का कैरियर

तुला राशि के जातक एक संतुलित जीवन जीना पसंद करते है। सत्य और सही निर्णय को लेकर हमेशा सतर्क रहते है ,इसलिए तुला जातक ऐसी नौकरी पसंद करते है जिसमें वे सही न्याय कर सके। पुलिस विभाग , अधिवक्ता ,एक न्यायाधिपति तुला राशि के के जातकों के पसंदीदा विभागों में से एक होते है। 

तुला राशि के जातक राजनीती में एक अच्छे राजनेता भी हो सकते है। इसके आलावा तुला जातकों को  ऐडमिनिस्ट्रेटर, आर्किटेक्ट-इंटीरियर डिजाइनर,संगीतकार ,वादक, संगीतिज्ञ, फैशन डिजाइनर, फैंसी सामान और कपड़ों में भी सफल कैरियर बनाते है।

tula rashi वालो की आर्थिक स्तिथियाँ


तुला जातक अपने जीवन में सभी सुख सुविधाओं को भोगने का आनंद लेते है, और अपने इसी शौक की वजय से वह अपनी सुख सुविधाओं पर खूब खर्च करते है, इसलिए ऐसा भी देखा जाता है की तुला राशि के जातक अपने जीवन में बहुत अधिक धन जोड़ नहीं पाते।  

तुला जातक अगर व्यापार करते है तो अपनी चतुराई से वह अच्छा धन और यश प्राप्त करते है, अपने जीवन में अच्छा घर-मकान और संपत्ति अर्जित करते है।

तुला जातक अच्छे सफल अधिवक्ता ,जज, डॉक्टर, वैज्ञानिक भी देखे जा सकते है, ऐसे कोई भी क्षेत्र जो काल से जुड़े हुए है, उनमें तुला राशि के जातकों को बहुत अच्छी सफलता प्राप्त करते हुए देखा जा सकता है।

इनके आलावा तुला जातकों को दवाई विक्रेता, पेंटिंग कलाकार, कहानी लेखन, रंगमंच कलाकार, टीवी कलाकार, फिल्म से जुड़े कलाकार, अभिनेता, सौन्दर्य प्रसाधन व्यापारी, फोटोग्राफर, संगीतकार या संगीत से जुड़े कार्यो में, एजेंसिया, घर-मकान निर्माता आदि जैसे क्षेत्रों के अपनी आजीविका कमाते हुए देखा जा सकता है।

Read Also : Your Lucky Gemstone

tula rashi और मित्र एवं जीवनसाथी 

तुला जातकों के जीवन में मित्रता और प्रेम का विशेष महत्त्व रहता है, वह अपने जीवन में बहुत से मित्रों के बिना नहीं रह सकते, अगर मित्र ना हो तो समझ ले की उनका जीवन अधूरा है,
वह अपने मित्रों में बहुत लोकप्रिय भी होते है, और बहुत पसंद किये जाते है, प्रेम का तो उनके जीवन में इतना महत्त्व होता है की बुढ़ापे तक तुला राशि के जातक रंगीनमिजाज रहते है। 


जहाँ भी वह कोई खूबसूरत महिला को देखते है तो मोहित हो उठते है और उसे अपने प्रेम में फ़साने की कोशिशों में लग जाते है।
उनके जीवन में प्रेम, प्यार, मोहोब्बत चलती रहती है, उनके जीवन में इनसब का बहुत महत्त्व रहता है, इनके बिना वह अपने जीवन की कल्पना भी नहीं कर सकते, यही उनका स्वाभाव होता है।

तुला जातक मिलनसार होते है ,वह हमेशा दुसरो की मदद करते है , उनके लिए सदैव तैयार रहते है इसलिए उनके बहुत मित्र होते है और मित्रों में वे बहुत पसंद किये जाते है। उन्हें भी दोस्तों और लोगों संगती में रहना बहुत पसंद होता है। दोस्तों के साथ समय बिताना ,घूमने जाना उन्हें बहुत पसंद होता है। किसी भी तरह के सामूहिक आयोजनों में बढ़ चढ़ कर हिस्सा लेते है। 

तुला जातक अपने जीवनसाथी को लेकर बहुत सजग रहते है, अच्छा और आकर्षक व्यक्तित्व ,सुन्दर जीवनसाथी उनकी प्राथमिकता होती है। तुला जातक एक अच्छे प्रेमी होते है, सुन्दर स्त्रियो की तरफ उनका विशेष आकर्षण रहता है। 

जीवनसाथी और प्रेमिका को लेकर शांतिपूर्ण जीवन उनके लिए सबसे महत्वपूर्ण होता है। उनके जीवन में स्त्री का होना आवश्यक है ,वे अकेले नहीं रह सकते। प्रेमी और जीवनसाथी के रूप में वे बड़े संतुलित होते हैं। अपने जीवनसाथी या प्रेमिका की खुशियों के लिए सब कुछ करने को तैयार रहते है। 

स्वास्थ्य


वैसे तो तुला जातकों का स्वास्थय अच्छा ही रहता है, लेकिन उन्हें अपने जीवन में संतुलित खान-पान और जीवन शैली को अपनाना चाहिए अन्यथा उन्हें स्नायु रोगों का सामना करना पड़ सकता है,
तुला जातकों को कमर दर्द और अपेंडिक्स को शिकायत रह सकती है।

tula rashi जातकों का शुभ रत्न

tula rashi राशि के जातकों के लिए उनके स्वामी शुक्र ग्रह का मुख्य रत्न हीरा है, हीरा कीमती होने की वजय से जो व्यक्ति हीरा धारण करने में असमर्थ है वे जातक हीरे के स्थान पर सफ़ेद ओपल या सफ़ेद जिरकॉन भी भी धारण कर सकते है,

हीरा तुला जातकों के लिए अत्यंत ही शुभ और भाग्यशाली रत्न है, हीरा धारण करने से तुला जातकों की कुंडली में शुक्र को बल प्राप्त होता है और शुक्र के शुभ प्रभाव प्राप्त होते है,
शुक्र का रत्न हीरा जीवन के सभी सांसारिक और भौतिक सुखों की प्राप्ति करवाता है, हीरा धारण करने से व्यक्ति की सुंदरता बढ़ती है, उसकी पौरुष शक्ति बढ़ती है, सभी प्रकार के विलास के सुख प्राप्त होते है, आर्थिक उनत्ति और धन लाभ होता है,

इसलिए हर तुला जातक को हीरा या सफ़ेद ओपल, सफ़ेद जिरकॉन जरूर धारण करना चाहिए और अपने स्वामी ग्रह के शुभ प्रभावों को बढ़ाना चाहिए।

हीरा धारण विधि

हीरा चांदी या 18 कैरट स्वर्ण में धारण करना शुभ रहता है, हीरा हमेशा मध्यमा उंगली में ही धारण करें ,
हीरा धारण करने का शुभ दिन शुक्रवार सूर्योदय है, शुक्रवार के दिन हीरे की अंगूठी को गंगा जल से शुद्ध करके पूजा स्थान में रख दें,
उसके बाद अपने इष्ट देव को याद करते हुए अपनी मनोकामना की मांग करें और 11,000 की संख्या में शुक्र मन्त्र (ॐ द्रां द्रीं द्रौं सः शुक्राय नमः) का जाप करें और मध्यमा उंगली में धारण करें।

  • tula rashi की मित्र राशियां – मिथुन, कुंभ
  • विवाह के लिए उपयुक्त राशि : मेष
  • भाग्यशाली  अंक:  6, 15, 24, 33, 42, 51, 60

Leave a Comment

सूर्य रत्न माणिक्य कौन धारण कर सकते है पन्ना रत्न किसे पहनना चाहिए