ग्रहों के मन्त्र और जप संख्या

ग्रहों के सम्पूर्ण लाभ प्राप्त करने के लिए ग्रहों के मन्त्र और जप संख्या निर्धारित है, जिसके पूर्ण लाभ प्राप्त करने के लिए उसका पालन करना जरुरी होता है।

किसी भी ग्रह को पूजा, शांति या रत्न धारण में उस ग्रह से सम्बंधित मंत्रो का जाप अनिवार्य होता है, तभी ग्रह पूजा या रत्न धरना में लाभ मिलता है,
रत्न धारण में भी ‘रत्न’ को सिद्ध और अभिमंत्रित करना आवश्यक होता है अन्यथा वह रत्न अप्रभावशाली होता है और ऐसे रत्न को धारण करने से कोई लाभ प्राप्त नहीं होते, फिर चाहे वह रत्न कितना भी कीमती क्यों ना हो,

ग्रहों की शांति और उनके प्रभावों को बढ़ाने के लिए मन्त्र बहुत शक्तिशाली सिद्ध होते है, मंत्रो की शक्ति से बड़ी बड़ी मुसीबतों को भी बहुत हद तक ख़त्म किया जा सकता है, यहाँ तक की मंत्रो में इतनी शक्ति विद्ययमान रहती है की उनसे मुसीबतों को ख़त्म भी किया जा सकता है,

किसी भी व्यक्ति के जीवन में मंत्रों को तीन प्रकार से उपयोग में लाया जाता है, प्रथम है जन्म कुंडली में ग्रहों की निर्बलता या अनिष्टकारी होने पर उनके मंत्रो का जप करवाकर उनकी शांति या उनके प्रभाव को बढ़ाना,
दूसरा रत्न धारण के समय रत्नों को सिद्ध और अभिमंत्रित करने के लिए मंत्रो का जाप करना,
तीसरा होता है, स्वयं अपने ग्रहों की शांति या प्रभाव बढ़ाने के लिए मंत्रो का जाप करना।

हर ग्रह के मन्त्र जप की एक निर्धारित जप संख्या रहती है, ऐसे तो हम अपनी सुविधाअनुसार कितनी भी संख्या में मन्त्र जप कर लेते है जो की सही नहीं है।

आइये आज हम इसी विषय में जानकारी प्राप्त करते है की किसी ग्रह के कितने मंत्रो की संख्या निर्धारित है, जिसे जपने से ही व्यक्ति को सम्पूर्ण लाभ प्राप्त होते है।

ग्रहों के मन्त्र और जप संख्या

ग्रहरत्नमन्त्रजप संख्या
सूर्य माणिक्यऊँ ह्रां ह्रीं ह्रौं सः सूर्याय नमः7,000
चंद्र मोतीॐ श्रां श्रीं श्रौं स: चन्द्रमसे नम:11,000
बुध पन्नाऊँ ब्रां ब्रीं ब्रौं सः बुधाय नमः9,000
ब्रहस्पति पीला पुखराजऊँ ग्रां ग्रीं ग्रौं सः बृहस्पतये नम:19,000
मंगल लाल मूंगाऊँ क्रां क्रीं क्रौं सः भौमाय नमः10,000
शुक्र हीराॐ द्रां द्रीं द्रौं सः शुक्राय नमः21,000
शनि नीलमऊँ प्रां प्रीं प्रौं सः शनैश्चराय नमः23,000
राहु गोमेदऊँ भ्रां भ्रीं भ्रौं सः राहवे नमः18,000
केतु लहसुनियांऊँ श्रां श्रीं श्रौं सः केतवे नमः18,000
ग्रहों के मन्त्र और जप संख्या

1 thought on “ग्रहों के मन्त्र और जप संख्या”

  1. You are sharing knowledge that is helpful. It is extremely accurate information that will help us and everyone else learn more. Keep distributing your data. I’m grateful.

    Reply

Leave a Comment

सूर्य रत्न माणिक्य कौन धारण कर सकते है पन्ना रत्न किसे पहनना चाहिए