manik ratna kaisa hota hai माणिक्य रत्न के चमत्कार फायदा

manik सूर्य का रत्न है, माणिक्य धारण करने से सूर्य के प्रभाव और शक्ति बढ़ जाती है, आइये जानकारी प्राप्त करते है की manik ratna kaisa hota hai माणिक्य रत्न के चमत्कार फायदा और माणिक्य धारण करने से क्या के लाभ प्राप्त हो सकते है साथ ही जानेंगे की किसी लग्न के व्यक्ति माणिक्य धारण करके अपने जीवन में सुख समृद्धि ला सकते है।

HARDNESS          9
REFRACTIVE INDEX   1.76 – 1.77
OPTIC CHARACTER      4.00
माणिक्य, सूर्य का रत्न

माणिक्य रत्न के चमत्कार फायदा

सिंह राशि पांचवें स्थान पर आती है। सिंह राशि को अंग्रेजी में ‘Leo’ कहा जाता है और इसपर सूर्य का शासन होता है। सूर्य की तरह सिंह राशि के जातक भी बड़े दिल वाले, सामाजिक रूप से प्रसिद्ध, सभी के लिए मददगार और स्वाभिमानी स्वभाव के होते हैं।

सिंह राशि पर सूर्य का अधिकार रहता है और सूर्य का प्रतिनिधित्व रत्न माणिक्य है इसलिए सिंह राशि का शुभ और भाग्यशाली रत्न माणिक्य होता है,

manik ratna kaisa hota hai

नवरत्नों में manik का सर्वाधिक सम्मानजनक स्थान है। माणिक रत्न सूर्य ग्रह, सिंह और सिंह लग्न ग्रह का प्रतिनिधित्व करता है। माणिक्य रत्न अपनी सुंदरता, रंग, कठोरता के लिए विश्व प्रसिद्ध है।
माणिक्य को रत्नों के राजा का पद भी प्राप्त है। रत्नों में माणिक सबसे कीमती होता है। जब किसी कुंडली में सूर्य की ऊर्जा बढ़ानी हो और सूर्य के शुभ फल प्राप्त करने हो तब सूर्य का रत्न माणिक धारण किया जाता है।

माणिक को अंग्रेजी में ‘Ruby’ कहते हैं। माणिक्य कई नामों से जाना जाता है जैसे की माणिक, याकूत, माणिक्य, रविरत्न, मणिभयम, पद्मारगम, चुन्नी आदि,
माणिक्य का रंग लाल, गुलाबी, हल्का लाल होता है,
माणिक्य रत्न पारदर्शी और अपारदर्शी दोनों में पाया जाता है। सबसे अच्छी गुणवत्ता वाला माणिक बर्मा (बर्मी रूबी) और श्रीलंका (सिलोन) में पाया जाता है। यहां के माणिक बहुत सुंदर लाल और गुलाबी रंग के हैं और गुणवत्ता भी बहुत अच्छी है।

manik की सबसे बड़ी विशेषता इसका सुंदर लाल रंग और इसकी कटिंग है। सुर्ख लाल रंग, चमकदार, पारदर्शी माणिक्य विरले ही प्राप्त होता है और इसका मूल्य भी बहुत अधिक होता है।

Read Also: आपका भाग्यशाली रत्न

माणिक्य की विशेषता और पहनने के लाभ

manik सूर्य का रत्न है इसलिए जिस कुण्डली में सूर्य किसी भी शुभ भाव का स्वामी है तो उस जातक के लिए माणिक धारण करना शुभ रहेगा।

माणिक्य रत्न को धारण करने से व्यक्ति के जीवन में सूर्य की ऊर्जा प्रवाहित होने लगती है और व्यक्ति ऊर्जावान महसूस करने लगता है। manik धारण करने से जीवन में अनुकूल परिणाम मिलने लगते हैं, सामाजिक प्रतिष्ठा में वृद्धि होने लगती है, व्यापार में वृद्धि होती है, धन का आगमन होता है, पारिवारिक और वैवाहिक सुखों की प्राप्ति होने लगती हैं। पति-पत्नी के बीच तालमेल और प्यार बढ़ता है।

दिल, दिमाग से आत्मविश्वास बढ़ने लगता है और व्यक्ति ऊर्जा से काम करने लगता है। अगर आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं है तो आर्थिक स्थिति में भी धीरे-धीरे सुधार होने लगता है। मन अध्यात्म की ओर मुड़ने लगता है, समाज में खोया सम्मान मिलने लगता है।

जो लोग राजनीति से जुड़े होते हैं उनके लिए भी manik वरदान साबित होता है, राजनीति में सूर्य का मजबूत होना बहुत जरूरी है, इसलिए माणिक पहनना हर उस व्यक्ति के लिए बहुत शुभ होता है जो राजनीति से जुड़ा होता है। उच्च पद प्राप्त करने की संभावनाएं बढ़ जाती है।

manik धारण करने से वंश वृद्धि होती है। इसे धारण करने से सुख-समृद्धि और यश की प्राप्ति होती है। इसके प्रभाव से समस्त भय, रोग और शोक आदि दूर हो जाते हैं और धारक को असीमित सुख की प्राप्ति होती है।

manik धारण करने से मानसिक शक्ति मजबूत होती है। माणिक ऐसा रत्न है जो पारिवारिक संबंधों को बढ़ाता है, पारिवारिक विवाद समाप्त करता है।
माणिक पहनने से पैतृक संपत्ति का लाभ होता है। सामाजिक स्तर पर नाम और प्रसिद्धि मिलती है। सामाजिक बुराइयों से दूर रखता है। अच्छे दिल और स्वास्थ्य को बनाए रखता है दाम्पत्य जीवन को सुखी बनाता है, सद्भाव बढ़ाता है।

लग्न के अनुसार माणिक्य धारण करना

मेष लग्न:

मेष लग्न की जन्म कुंडली में सूर्य पंचमेश और लग्न का स्वामी मंगल है। मेष लग्न के जातक शिक्षा, पारिवारिक वृद्धि और संतान सुख, प्रसिद्धि, मान सम्मान, प्रतिष्ठा, संपत्ति, धन, व्यापार पाने के लिए हमेशा माणिक रत्न धारण कर सकते हैं। सूर्य की महादशा आने पर मेष राशि में माणिक धारण करना मेष राशि वालों के लिए काफी उत्साहवर्धक रहेगा।

वृष लग्न:

वृष लग्न के जातकों की कुंडली में सूर्य चतुर्थ भाव का प्रतिनिधित्व करता है और स्वामी भी है। सूर्य और लग्न शुक्र की शत्रुता के कारण कुण्डली का विश्लेषण करने के बाद ही माणिक्य धारण करना चाहिए।
यदि सूर्य शुभ भाव में बैठा हो तो माणिक्य सूर्य की महादशा में धारण किया जा सकता है। सूर्य महादशा में माणिक्य धारण करने से धन, पारिवारिक सुख, वाहन, संपत्ति, लाभ और प्रसिद्धि का लाभ मिलेगा।

मिथुन लग्न:

किसी भी व्यक्ति की मिथुन राशि में सूर्य तीसरे भाव का स्वामी होता है, इसलिए मिथुन लग्न के जातकों के लिए बेहतर होगा कि वे माणिक न पहनें।

कर्क लग्न:

कर्क लग्न के जातकों की कुंडली में सूर्य धन का स्वामी यानि द्वितीय भाव का स्वामी होता है, चंद्रमा और सूर्य आपस में मित्रता भी रखते हैं. इसलिए कर्क लग्न के जातक माणिक्य धारण कर सकते हैं।
धन प्राप्ति के लिए माणिक्य धारण करना बहुत ही लाभदायक होगा। आंखों में परेशानी हो तो भी माणिक्य धारण करने से लाभ मिलता है। यदि आप माणिक्य और मोती एक साथ धारण करते हैं, तो जीवन में आनंद आएगा।
माणिक्य को सूर्य की महादशा में धारण करने से धन, संपत्ति, सामाजिक मान-सम्मान, सुख-समृद्धि की प्राप्ति होती है।

सिंह लग्न:

सिंह लग्न की कुंडली में सूर्य लग्नेश होता है इसलिए सिंह लग्न के जातकों को माणिक्य जीवन भर धारण करना चाहिए।
सिंह लग्न के लोगों को माणिक्य धारण करने से सामाजिक प्रसिद्धि, मानसिक सुख, शिक्षा में लाभ, व्यापार में वृद्धि, स्वास्थ्य लाभ, आयु वृद्धि, धन, संपत्ति लाभ, संतान सुख, वाहन सुख, पारिवारिक और वैवाहिक सुख प्राप्त होता है।

कन्या लग्न :

कन्या लग्न के जातकों की कुंडली में सूर्य बारहवें भाव का स्वामी होता है। इसलिए कन्या लग्न के जातकों को भी यही सलाह दी जाएगी कि माणिक्य न पहनें तो अच्छा रहेगा, अन्यथा व्यर्थ के धन की हानि होगी और स्वास्थ्य पर बुरा प्रभाव पड़ सकता है।

तुला लग्न :

यदि आपका लग्न तुला है तो सूर्य आपकी कुण्डली में एकादश भाव का स्वामी होगा अर्थात आपके जीवन में लाभ का स्वामी होगा,
लेकिन तुला लग्न के स्वामी शुक्र और सूर्य की शत्रुता के कारण माणिक धारण करने से भी नुकसान हो सकता है, इसलिए सबसे पहले यह देखें कि कुंडली में सूर्य ग्रह कहां स्थित है,
यदि सूर्य शुभ भाव में है तो माणिक्य को सूर्य की महादशा में धारण करना चाहिए। नहीं तो आपको किसी ज्योतिषी से सलाह लेनी चाहिए।

वृश्चिक लग्न:

वृश्चिक लग्न की कुंडली में सूर्य दशम भाव का स्वामी है। इस लग्न में मंगल और सूर्य सबसे अच्छे मित्र हैं और इस लग्न में सूर्य आपके व्यवसाय और मान-सम्मान का स्वामी भी है,
इसलिए वृश्चिक लग्न के जातकों के लिए माणिक्य धारण करना बहुत लाभकारी रहेगा। माणिक्य धारण करने से धन, संपत्ति, व्यापार, नौकरी, पिता से संबंध, मान सम्मान और मान-सम्मान की प्राप्ति होती है।

धनु लग्न:

धनु लग्न की कुंडली में सूर्य आपके भाग्य का स्वामी बनता है और सूर्य लग्नेश का मित्र ग्रह भी है।
इसलिए धनु लग्न के जातकों के लिए माणिक्य धारण करने से भाग्य की वृद्धि होती है, वे भाग्यवान बनते हैं, भाग्य से हर सुख की प्राप्ति होती है, व्यापार लाभ, धन लाभ और यदि पैतृक संपत्ति में कोई विवाद चल रहा हो तो वह समाप्त होता है, पैतृक संपत्ति की प्राप्ति होती है.

मकर लग्न:

मकर लग्न की कुण्डली में सूर्य अष्टम भाव का स्वामी बनता है, जिसका अर्थ है हर काम में हानि और बाधा। साथ ही लग्न शनि और सूर्य की घोर शत्रुता है, इसलिए यदि इस लग्न के जातक को अपना कल्याण चाहिए तो रूबी से कई किलोमीटर दूर रहें।

कुम्भ लग्न :

कुम्भ लग्न की कुण्डली में सूर्य सप्तम भाव का स्वामी बनता है और सूर्य दाम्पत्य जीवन के लिए शुभ नहीं है. इसके साथ ही इस घर में सूर्य मारक भी है। सबसे खास बात यह है कि सूर्य इस लग्न के स्वामी शनि का भी भयंकर शत्रु है इसलिए इस लग्न के जातक माणिक्य से दूरी बनाकर ही सुरक्षित रहेंगे।

मीन लग्न:

मीन लग्न के जातकों की कुंडली में सूर्य छठे भाव का स्वामी होता है। इस भाव में सूर्य हृदय से संबंधित रोग दे सकता है और साथ ही सूर्य कर्ज बढ़ा सकता है, इसलिए इसे देखकर कहा जा सकता है कि इस लग्न के लोगों के लिए माणिक नहीं पहनना बेहतर होगा।
अगर कुछ विशेष परिस्थितियों में भी माणिक्य धारण किया जा सकता है तो उसके लिए आपको किसी ज्योतिषी से सलाह लेनी होगी।

कितना कैरेट manik धारण करना चाहिए?

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार कम से कम 5 से 6 कैरेट का माणिक धारण करना चाहिए, यदि माणिक्य, शुद्ध, स्वच्छ, सुंदर लाल रंग, दोषरहित है तो 2.50 कैरेट से 3.00 कैरेट का माणिक्य धारण कर सकते हैं। इसे पहनना काफी फायदेमंद रहेगा।

manik को किस धातु की अंगूठी में धारण करना चाहिए?

माणिक्य रत्न को सोने या तांबे की अंगूठी में जड़कर ही धारण करें।

manik धारण करने की विधि ?

रविवार की सुबह सूर्योदय के बाद माणिक्य की अंगूठी को कच्चे दूध से शुद्ध करें, फिर गंगाजल के जल से शुद्ध करके पूजा स्थल पर रख दें, धूप, दीपक, अगरबत्ती, प्रशाद से उसकी पूजा करें और सूर्य मंत्र (11,000) का जाप करें और अनामिका उंगली में धारण करें।

सूर्य मंत्र

ॐ सूर्याय नम:
ॐ घृणि सूर्याय नम:

माणिक रत्न किसे धारण करना चाहिए?

जिनकी कुण्डली में सूर्य लग्न, दशम, पंचम, नवम, षष्ठम भाव में है, उन लोगों को माणिक्य धारण करना चाहिए।

किस राशि के जातक को माणिक्य धारण करना चाहिए?

सिंह, मेष, वृश्चिक, धनु

माणिक्य धारण करने से क्या होता है।

माणिक्य को रक्षा रत्न माना जाता है और नकारात्मक शक्तियों को दूर कर धारक को सकारात्मक ऊर्जा प्रदान करता है,अध्यात्म की ओर ले जाता है, सफलता और प्रसिद्धि प्राप्त होती है, धन लाभ, आर्थिक वृद्धि होती है।

कौन सा रंग रूबी सबसे अच्छा है?

लाल, गुलाबी

कौन सा देश रूबी सबसे अच्छा है?

म्यांमार (बर्मा) और सीलोन(श्रीलंका)

अच्छा माणिक्य कैसा होता है।

सुर्ख लाल रंग, बगैर टूटा-फूटा, कोई काला धब्बा नहीं, पारदर्शी और चमकदार

माणिक्य रत्न ही क्यों खास है?

माणिक्य अपनी दुर्लभता, लाल रंग, सुंदरता, कठोरता, स्थायित्व के लिए जाना जाता है और सभी रत्नों में विशेष है।

Leave a Comment

सूर्य रत्न माणिक्य कौन धारण कर सकते है पन्ना रत्न किसे पहनना चाहिए